Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

फाइल दबाकर रेलवे ने मारा यात्रियों का हक

सेकेंड एसी का टिकट कंफर्म नहीं होने पर हवाई यात्रा की योजना खटाई में

फाइल दबाकर रेलवे ने मारा यात्रियों का हक
नई दिल्ली. रेल यात्रियों की सहूलियतों के लिए बनाई गई एयर इंडिया की बेहद लोकप्रिय योजना रेलवे बोर्ड की लालफीताशाही का शिकार हो गई। एयर इंडिया और रेलवे बोर्ड के बीच इस योजना के लिए बकायदा एमओयू हुए। मगर योजना का लाभ रेलयात्रियों को मिल पाता उससे पहले ही फाइल दबा ली गई। बात हो रही है राजधानी एक्सप्रेस के वैसे रेल यात्रियों को हवाई यात्रा का लाभ देने की जिनकी सेकंड एसी की टिकट कंफर्म नहीं हो पाई।
वैसे यात्रियों के लिए एयर इंडिया ने राजधानी के किराए पर ही हवाई यातायात की टिकट देने के वायदे के साथ घोषणा तो की, लेकिन योजना परवान नहीं चढ़ पाई। योजनाकारों को उम्मीद थी कि प्रतिदिन 2 से 3 हजार के बीच यात्रियों को एयरइंडिया के लो-फेयर का लाभ दिया जा सकेगा जो कि योजना कठिन होने से अभी महज 200-300 यात्रियों के बीच सिमट कर रह गया है।
रेलवे बोर्ड की राजनीति ले डूबी
हरिभूमि से एक्सक्लूसिव बातचीत में एयर इंडिया के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर (सीएमडी) अश्वनी लोहानी दो टूक कहा, ‘राजधानी एक्सप्रेस के यात्रियों के लिए बनाई गई इस योजना का लाभ रेलयात्रियों को देना चाहते थे मगर रेलवेबोर्ड ने नहीं होने दिया।’ तो ऐसे क्या कारण रहे कि एमओयू होने के बाद भी योजना का लाभ अंतिमतौर पर यात्रियों को नहीं मिल सका? जवाब में अश्वनी लोहानी ने कहा, मैंने बहुत कोशिश की। कई बार रेलवे बोर्ड के वरिष्ठ अधिकारियों से बातचीत की। मगर, फाइल कहां अटकी, मैं नहीं बता सकता।
लोहानी खुद रेलवे सर्विसेज के वरिष्ठ अधिकारी हैं। रेलवे बोर्ड की अफसरशाही में उनकी खासी प्रतिष्ठा भी है तब भी फाइल आपसी खींचातानी में उलझ कर रह गई। रेलवे बोर्ड के सूत्रों ने बताया कि एयरइंडिया की फाइल मेंबर ट्रैफिक मोहम्मद जमशेद के टेबल पर पड़ी है। अब फाइल को जानबूझकर अटकाया गया है या उसमें कुछ सुधार की आवश्यकता है इस बारे में कोई खुलकर बोलने को तैयार नहीं।
ऐसे चल रही
रेलवे बोर्ड में फाइल अटकी तो अब योजना यात्रियों के लिए थोड़ी मुश्किल हो गई। अब एयरइंडिया की कोई फ्लाइट अगर 10 बजे सुबह है तो आपको चार घंटे पहले यानि 6 बजे एयरपोर्ट स्थित एयरइंडिया के काउंटर से टिकट के लिए आवेदन देना होगा। सीट उपलब्ध हुई तो राजधानी एसी-टू के किराए पर आपको टिकट मिल सकेगा। इसमें यात्रियों का काफी समय नष्ट होता है। उस पर भी टिकट मिलेगा या नहीं उसकी गारंटी नहीं।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलोकरें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top