Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

दिल्ली की हवा को खराब करने के पीछे पाक का हाथ!

मौजूदा समय में हवा की दिशा उत्तर पश्चिम है जो पाकिस्तान से भारत की ओर बह रही है।

दिल्ली की हवा को खराब करने के पीछे पाक का हाथ!
नई दिल्ली. दिवाली के बाद से राजधानी दिल्ली में हेवी स्मॉग के कारण लोगो को सांस लेने में दिक्कतें आने लगी और इसका कारण बताया गया पटाखों से फैले पॉल्यूशन को। कुछ लोगों ने पंजाब में फसलों के जलाए जाने को पॉल्यूशन का मुख्य कारण बताया। जहरीली हवा इस कदर फैली की पड़ोसी देश पाकिस्तान कि शिकायत भी आने लगी। पाकिस्तानी अधिकारियों ने आरोप लगाया था कि भारत के पंजाब और आसपास के इलाकों में क्रॉप बर्निंग की वजह से पाकिस्तान को भी स्मॉग का सामना करना पड़ रहा है। दिल्ली और पंजाब के पॉल्यूशन की वजह से उनके दो शहर लाहौर और कराची में हालात बदतर हो गए हैं। इससे पहले ऐसे हालात नहीं पैदा हुए थे।
वहां के मौसम विभाग के अधिकारियों ने भारत में खेती की प्रक्रिया को दोषी ठहराते हुए कहा था कि पड़ोसी देश की वजह से उनके यहां भी प्रदूषण चरम सीमा पर पहुंच गया है और अब तक 20 लोगों की मौत हो चुकी है। जबकि भारतीय आंकड़ें कुछ और ही बता रहे हैं। चंडीगढ़ के पीजीआइ स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के डॉ रविंद्र खैवाल की मानें तो उन्होंने नासा की सैटलाइट तस्वीरें पाकिस्तान के दावों को खारिज करती हैं। 'हवाओं के रूख को देखें तो इस्लामाबाद से आ रही हवाओं की क्वॉलिटी इतनी ज्यादा खराब है कि उनकी वजह से हमारा वातावरण भी प्रभावित हो रहा है।
नासा की तस्वीरें दिखाती हैं कि हमारे पंजाब की तरफ काफी मात्रा में क्रॉप बर्निंग हुई है। इसलिए हम यह नहीं कह रहे कि सारा स्मॉग पाकिस्तान की तरफ से आया है। लेकिन उनकी तरफ से चल रही खराब हवा भी हमारी मुश्किलें बढ़ा रही है।'
डॉ खैवाल कहते हैं, 'हमारी छानबीन यह बताती है कि स्मॉग वाली हवा पाकिस्तान से शुरू होकर भारत की तरफ आ रही है। वो लोग हमारे यहां प्रदूषण को बढ़ावा दे रहे हैं ना की हम उनके यहां।' भारतीय मौसम विभाग के अधिकारियों ने इस बात की पुष्टि की है कि मौजूदा समय में हवा की दिशा उत्तर पश्चिम है जो पाकिस्तान से भारत की ओर बह रही है।
हालांकि पीजीआइ की छानबीन में इस बात का पता चला है कि पिछले 2 सप्ताह में पंजाब में स्मॉग में 30 फीसदी की कमी हुई है। डॉ रविंद्र खैवाल ने कहा, 'हमने पाया कि अक्टूबर के बाद से हरियाणा में चारा जलाए जाने की कोई तस्वीर नहीं मिली है। साथ ही पंजाब में भी पिछले 24 घंटे में चारा जलाए जाने की घटनाओं में बड़ी मात्रा में कमी देखी गई है।'
डॉ खैवाल जो पिछले एक दशक से वातावरण में प्रदूषण की समस्या पर काम कर रहे हैं वो बताते हैं कि हर साल अक्टूबर और नवंबर के महीने में वायु प्रदूषण अचानक बहुत ज्यादा बढ़ जाता है और इसकी सबसे बड़ी वजह है पंजाब और हरियाणा में चारे को जलाना। लेकिन डॉ खैवाल की मानें तो वायु प्रदूषण के लिए सिर्फ किसानों को जिम्मेदार मानकर उनको दंड देना सही नहीं है। इसकी जगह हमें वाहनों और उद्योगों से निकलने वाली जहरीली हवा पर चौबीसों घंटे निगरानी रखनी होगी ताकि हम इस समस्या को बेहतर तरीके से समझ सकें।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top