Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पाकिस्तान को घर में घुसकर फटकारा : राजनाथ सिंह

दक्षेस देशों के गृह मंत्रियों के सम्मेलन में हिस्सा लेने पाकिस्तान गए थे राजनाथ

पाकिस्तान को घर में घुसकर फटकारा : राजनाथ सिंह
नई दिल्ली. गृहमंत्री राजनाथ ने पाकिस्तान को सख्त लहजे में कहा कि आतंकवादियों का शहीद के तौर पर कोई महिमामंडन न करे। उन्होंने आतंकवाद का सर्मथन कर रहे देशों के खिलाफ कठोरतम कार्रवाई का आह्वान किया। आतंकवाद और आतंकवादियों की सिर्फ निंदा पर्याप्त नहीं है।
वह यहां दक्षेस देशों के गृह मंत्रियों के सम्मेलन में हिस्सा लेने आए हैं। गृह मंत्री ने यह भी कहा कि न सिर्फ आतंकवादियों या संगठनों के खिलाफ 'कठोरतम कार्रवाई' होनी चाहिए बल्कि उन लोगों, संगठनों और राष्ट्रों के खिलाफ भी कार्रवाई होनी चाहिए जो आतंकवाद का सर्मथन करते हैं।
राजनाथ के शरीफ से मुलाकात करने वाले संयुक्त प्रतिनिधिमंडल का हिस्सा बनने के बारे में फैसला प्रधानमंत्री कार्यालय में कल देर रात गृह और विदेश मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों की कई दौर की मंत्रणा के बाद लिया गया।
दक्षेस देशों के मंत्रियों का यह प्रतिनिधिमंडल तकरीबन 20 मिनट तक शरीफ के साथ रहा और इस दौरान केवल शुभकामनाओं का आदान प्रदान हुआ। अधिकारियों ने यह जानकारी देते हुए बताया कि इस दौरान कोई औपचारिक चर्चा नहीं हुई।
भारत के वरिष्ठ नेता के साथ शरीफ की यह मुलाकात ऐसे वक्त में हो रही है, जब दोनों देशों के रिश्तों में तनाव है। कश्मीर में 8 जुलाई को हिज्बुल मुजाहिदीन के शीर्ष आतंकी बुरहान वानी की मौत के बाद से भारत और पाकिस्तान के बीच तल्खी बढ़ी है।
नवाज शरीफ से मिले राजनाथ
गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने सदस्य देशों के अपने समकक्ष मंत्रियों के साथ पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ से मुलाकात की। राजनाथ दक्षेस देशों के गृह मंत्रियों के संयुक्त प्रतिनिधिमंडल का हिस्सा थे, जिसने प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के साथ उनके कार्यालय में मुलाकात की।
राजनाथ-खान ने बमुश्किल मिलाए हाथ
सम्मेलन में भारत और पाकिस्तान के रिश्तों में जारी तनाव दक्षेस के गृह मंत्रियों के सम्मेलन में उस समय साफ तौर पर देखने को मिला, जब गृहमंत्री राजनाथ सिंह का अपने पाकिस्तानी समकक्ष चौधरी निसार अली खान से आमना-सामना हुआ। दोनों नेताओं ने बमुश्किल ही एक-दूसरे से हाथ मिलाए।
पाकिस्तान का फिर कश्मीर राग
पाकिस्तान के गृह मंत्री चौधरी निसार अली खान ने आरोप लगाया कि कश्मीर में की जा रही हिंसा खुला आतंकवाद है। खान ने राजनाथ के भाषण का जवाब देने के लिए लिखित नोट्स को नजरअंदाज किया। सिंह ने पाकिस्तान का नाम लिए बगैर उसकी आतंकवाद का सर्मथन करने पर उसकी निंदा की है।
भोज में नहीं लिया भाग
बैठक के बाद राजनाथ ने पाकिस्तान के गृहमंत्री चौधरी निसार अली खान द्वारा दी जा रही दावत में भी हिस्सा नहीं लिया क्योंकि मेजबान आयोजन स्थल से चला गया था।
दक्षिण एशिया प्रभावित
राजनाथ ने कहा कि आतंकवाद हमारी शांति के लिए सबसे बड़ी चुनौती और खतरा बना हुआ है। दक्षिण एशिया इस बीमारी से काफी गहराई से प्रभावित है, जैसा हाल में पठानकोट, ढाका, काबुल और अन्य स्थानों पर कायरतापूर्ण आतंकवादी हमलों में देखा गया।
समूची मानवता की तरफ से बोल रहा हूं
मैं सिर्फ भारत या दक्षेस के अन्य सदस्यों की तरफ से नहीं बल्कि समूची मानवता की तरफ से बोल रहा हूं। मैं अनुरोध कर रहा हूं कि किसी भी सूरत में आतंकवादियों की शहीद के तौर पर प्रशंसा नहीं की जानी चाहिए। -राजनाथ सिंहगृहमंत्री , भारत सरकार
खास बातें
-पाक को सुनाई खरी-खरी
-बिना लंच किए ही भारत लौटे
-राजनाथ की मीडिया कवरेज को रोका
-आतंकवाद और आतंकवादियों की केवल निंदा करना पर्याप्त नहीं
-आतंकवादियों की शहीदों के रूप में प्रशंसा नहीं की जानी चाहिए
-एक देश का आतंकी किसी दूसरे के लिए स्वतंत्रता सेनानी नहीं हो सकता
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलोकरें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top