Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

हज़रत निजामुद्दीन: कॉन्‍स्‍टेबल चला रहा है ''प्‍लेटफॉर्म पाठशाला''

20 साल से नि‍जामुद्दीन रेलवे स्‍टेशन पर धर्मवीर सिंह पढ़ा रहे हैं गरीब बच्‍चों को।

हज़रत निजामुद्दीन: कॉन्‍स्‍टेबल चला रहा है
नई दिल्ली. देश के सभी रेलवे स्टेशनों पर आपको एक सी हलचल देखने को मिलती है। स्टेशनों पर लाचार बच्चों के वहीं एक से चेहरे आपको देश के हर स्टेशन पर आराम से दिखाई दे जाएंगे। ये बच्चे अपना पेट भरने के लिए रेल के डिब्बों में झाडू लगाते हुए, नाश्ता बेचते हुए, पान-बीड़ी और गाते-नाचते हुए दिखाई देते हैं।
ये बच्चे लोगों को छुट्टी में कही घूमने जाते हुए, छात्रों को पढाई पूरी कर अपने घर जाते हुए, कई लोगों को अपने करियर की शुरुआत करने के लिए दूसरे शहर जाते हुए देखते हैं। इनके मन में भी कभी ये ख्याल आता होगा कि एक हमारी जिंदगी है और एक इन लोगों की। इस उम्र में उन्हें किसी स्कूल में पढ़ाई करते हुए अपना करियर संवारने के बारे में सोचने की जरुरत थी, लेकिन हर रोज पेट की आग को कैसे शांत रखा जाए इसके लिए हर रोज एक नया युद्ध करना पड़ता है।
लेकिन शुक्र है कि एक उम्मीद की किरण बनकर सामने आए हैं दिल्ली के धर्मवीर सिंह। कॉन्स्टेबल धर्मवीर सिंह दिल्ली के निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन पर इस तरह के बच्चों को जिंदगी से लड़ना सीखा रहे हैं। एक ओर जहां ज्यादातर पुलिस वाले इस तरह के बच्चों को स्टेशन से बाहर भगाने में लगे रहते हैं तो दूसरी तरफ धर्मवीर इन बच्चों को शिक्षित करने में लगे हुए हैं।
दरअसल, कॉन्स्टेबल धर्मवीर सिंह ने निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन पर पापड़ बेचने वाले बच्चों के साथ एक डील की है, अगर ये बच्चे एक घंटा पढ़ाई करेंगे तो उन्हें स्टेशन पर पापड़ बेचने की इजाजत मिल सकती है। वो उन बच्चों को बिना किसी परेशानी के स्टेशन पर पापड़ बेचने की अनुमति देंगे, जो पढ़ाई करेगा।
आगे की स्लाइड्स में पढ़िए, खबर से जुड़ी अन्य जानकारी -
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलोकरें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top