Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

नीतीश कटारा हत्याकांड : दिल्ली सरकार की अर्जी हुई खारिज, दोषियों को नहीं मिलेगा मृत्युदंड

दिल्ली हाईकोर्ट के फ़ैसले के ख़िलाफ़ नीतीश की मां नीलम ने सुप्रीम कोर्ट में गुहार लगाई थी।

नीतीश कटारा हत्याकांड : दिल्ली सरकार की अर्जी हुई खारिज, दोषियों को नहीं मिलेगा मृत्युदंड
नई दिल्ली. नीतीश कटारा हत्याकांड में लंबे समय के बाद सुप्रीम कोर्ट ने एक अहम फैसला सुनाया है। सुप्रीम कोर्ट ने नीतीश कटारा हत्याकांड दोषी ठहराए गए विकास और विशाल यादव को फांसी की सजा को खारिज कर दिया है।

दरअसल कटारा हत्याकांड में दिल्ली सराकार ने अपराधियों के खइलाफ फआंसी की सजा याचिका को खारिज कर दिया है।
कोर्ट ने कहा कि क्योंकि यह ऑनर किलिंग का मामला नहीं है, इसलिए उम्रकैद और 30 साल के बीच की सज़ा पर विचार किया जाएगा। सुप्रीम कोर्ट ने विकास और विशाल को दोषी मानते हुए हाई कोर्ट के फैसले पर मुहर लगायी थी लेकिन दोनों को कितनी सजा दी जानी चाहिए इसपर अब जनवरी में सुनवाई होगी।

क्या था मामला

नीतीश कटारा की फरवरी 2002 में हत्या कर दी गई थी। दिल्ली हाईकोर्ट ने इसके लिए विशाल और विकास यादव को 30-30 वर्ष कारावास की सज़ा सुनाई थी। विकास और विशाल यादव अपनी बहन भारती के साथ नीतीश के कथित रिश्तों का विरोध कर रहे थे।

विकास यादव उत्तर प्रदेश के राजनेता डीपी यादव के बेटे हैं और विशाल उनके चचेरे भाई है। दिल्ली हाईकोर्ट के फ़ैसले के ख़िलाफ़ नीतीश की मां नीलम ने सुप्रीम कोर्ट में गुहार लगाकर विशाल और विकास के लिए मौत की सज़ा की मांग की थी।

गौरतलब है कि अक्टूबर में सुप्रीम कोर्ट ने नीतीश कटारा हत्याकांड के दोषी विशाल और विकास यादव की सज़ा को मौत की सज़ा में तब्दील करने से इनकार कर दिया था। नीतीश कटारा की मां नीलम कटारा ने विकास और विशाल के लिए मौत की सज़ा की मांग के साथ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाख़िल की थी।

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

Next Story
Top