Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

एनसीईआरटी ''योग ओलंपियाड'' में ''ॐ'' उच्चारण’ होगा वैकल्पिक

''ॐ'' उच्चारण और ''सूर्य नमस्कार'' कुछ वर्गों का विचार माना जाता है।

एनसीईआरटी
नई दिल्ली. गणित और विज्ञान ओलम्पियाड के बाद एनसीईआरटी 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर शनिवार से सभी सरकारी और गैर सरकारी स्कूलों में तीन दिवसीय योग दिवस चलाएगा।
तीन दिन का यह कार्यक्रम शनिवार को शुरू होगा और उसका समापन अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की पूर्व संध्या पर पुरस्कार वितरण समारोह के साथ होगा जिसमें केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी शामिल होंगी।
एनसीईआरटी डायरेक्टर हृषिकेश सेनापति ने संवाददाताओं को बताया कि कार्यक्रम का शुभारम्भ मानव संसाधन एवं शिक्षा मंत्री स्मृति ईरानी करेंगी। कार्यक्रम में सभी राज्य ,जिला और ब्लॉक के प्राथमिक और उच्च कक्षा के बच्चें मौजूद रहेंगे, जिन्हें प्रतियोगिता में पांच योग पद्धतियों (आसन, प्रणायाम, क्रिया, ध्यान और बंद एवं मुद्रा) में परखा जाएगा।
उन्होंने कहा कि तीन दिवसीय ओलम्पियाड का थीम स्वास्थय और सौंदर्य है। यह जरूरी है की युवा पीढ़ी को आपस में प्रेम-सौहाद्र और शांति और मेल-जोल के बारे में सिखाया जाये। जो की योग के प्रमुख गुण हैं। योग से बच्चों में एक समझ विकसित होगी। साथ ही इससे बच्चों का मानसिक, शारीरिक और भावनात्मक विकास भी होगा।
सूर्य नमस्कार‘ और 'ॐ' उच्चारण’ के विरूद्ध कुछ वर्गों के विरोध को ध्यान में रखते हुए एनसीईआरटी ने इसे वैकल्पिक बनाया है। इस बाबत विरोधी दलों का कहना है कि 'ॐ' उच्चारण और 'सूर्य नमस्कार' कुछ वर्गों का विचार माना जाता है।
प्रतियोगिता में छात्रों का चयन ब्लॉक स्तर के जिले के आधार पर होगा। फिर राज्य स्तर पर बच्चों को चयनित किया जाएगा। अंत में 16 प्रतियोगियों को चुना जाएगा जिसमे पहले और दूसरे नंबर के प्रतियोगी होंगे। साथ ही इसमें 4 लड़के और 4 लड़कियां चुने जायेंगे। चुने गए प्रतिभागी दिल्ली में आयोजित वार्षिक प्रतियोगिता में भी हिस्सा लेंगे।
एनसीईआरटी निदेशक ने कहा कि कार्यक्रम में विजेताओं का चयन कुछ मानदंडों के आधार पर जूरी के द्वारा किया जाएगा। अंतिम चयन अलग-अलग योग गतिविधियों और व्यवहारिक प्रदर्शन के आधार पर होगा। प्रदर्शन के मामले में योग प्रथाओं के केवल व्यावहारिक पहलुओं पर ही फ़ैसला होगा।
प्रत्येक स्तर पर, वहां आसन, प्राणायाम, क्रिया, बंद में विशेषज्ञता वाले तीन न्यायाधीशों की एक टीम होगी। जूरी सदस्यों के शिक्षकों, चिकित्सकों को विभिन्न संस्थाओं, स्कूलों और देश भर में योग संस्थानों के विद्वानों से तैयार किया जाएगा।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलोकरें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top