Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

दिल्लीः MCD ने वसूला 700 करोड़ रु. का टैक्स, लेकिन नहीं पता कहां खर्च होगा

बोर्ड इस राशि के खर्च की योजना जल्द ही सुप्रीट कोर्ट को सौंपेगा

दिल्लीः MCD ने वसूला 700 करोड़ रु. का टैक्स, लेकिन नहीं पता कहां खर्च होगा
नई दिल्ली. दिल्ली नगर निगम प्रदूषण को लेकर इक्कठ्ठे किये गये टैक्स को लेकर चिंतित दिख रही है। बता दें कि एमसीडी ने लगभग 700 करोड़ रु. का टैक्स इकठ्ठा किया है। निगम की समस्या इसके नियोजित खर्च को लेकर है। निगम ने इस राशि को खर्च करने का अभी कोई प्लान नहीं बनाया है। टैक्स से इकठ्ठे किए 700 करोड़ रु. बिना किसी योजना के यूं ही रखे हुए हैं।
केवल पर्यावरण टैक्स से आए 400 करोड़ रु.
जानकारी के मुताबिक, दिल्ली में डीजल पर वसूले जाने वाले अधिभार से 300 करोड़ रु. जमा हुए है। दिल्ली में 2008 से डीजल पर प्रति लीटर 25 पैसे अधिभार लिया जाता है। वहीं पर्यावरण टैक्स से 400 करोड़ रु. की आमदनी हुई है। बता दें कि दिल्ली में प्रवेश करने वाले ट्रकों से पर्यावरण टैक्स लिया जाता है। लेकिन इतनी राशि को लेकर निगम के पास किसी भी तरह का एजेंडा नहीं है कि कैसे और कहां इस रकम को खर्च किया जाए।
सार्वजनिक परिवहन की बेहतरी के लिए खर्च हो यह राशि
सत्याग्रह की खबर के अनुसार, वहीं विशेषज्ञों का मानना है कि इस भारी भरकम राशि को सार्वजनिक परिवहन की बेहतरी के लिए ही खर्च किया जाए कयोंकि दिल्ली दुनिया के सबसे प्रदूषित प्रदेशों में से एक है। बता दें कि इस टैक्स को सुप्रीम कोर्ट और राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण के आदेशों के चलते लिया गया है।
एक्सशोरुम कीमत का ले एक प्रतिशत टैक्स
जानकारी के मुताबिक, सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली में 2000 सीसी से ज्यादा क्षमता वाली गाड़ियों की बिक्री पर से रोक हटा ली है जिसके चलते कोर्ट ने केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को अलग से एक खाता खोलने का निर्देश दिया है, जिसमें नई गाड़ियों की एक्सशोरुम कीमत का एक प्रतिशत प्रदूषण सेस जमा किया जाएगा।
बोर्ड सौंपेगा कोर्ट को पैसे खर्च की योजना
बोर्ड इस राशि को प्रदूषण की निगरानी, उसके नियंत्रण और जागरूकता के लिए खर्च करने की बात कह रहा है। बता दें कि बोर्ड जल्द ही कोर्ट को इस राशि के खर्च करने की योजना सौंपने वाला है। वहीं बोर्ड का कहना है कि इस खाते से अब तक लगभग 3 लाख रु. की आमदनी हो चुकी है जबकि निगम ने यह कर वसूलना अभी जारी भी नहीं किया है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलोकरें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top