Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

क्या महात्मा गांधी और भगत सिंह गैरकानूनी थे: कन्हैया

विश्वविद्यालय में जारी भूख हड़ताल को ''गैरकानूनी'' गतिविधि करार दिए जाने पर कन्हैया ने दिया बयान

क्या महात्मा गांधी और भगत सिंह गैरकानूनी थे: कन्हैया

नई दिल्ली. जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार ने एक बार फिर विश्वविद्यालय प्रशासन के खिलाफ आवाज उठाई है। कन्हैया ने कुलपति के उस बयान का विरोध किया है जिसमें उन्होंने कैंपस में जारी भूख हड़ताल को गैरकानूनी कहा था कन्हैया ने ट्वीट करके कहा, जेएनयू के कुलपति कह रहे हैं कि भूख हड़ताल गैरकानूनी है। इसका मतलब ये हुआ कि गांधी और भगत सिंह भी गैरकानूनी थे।

बिगड़ने लगा छात्रों का स्वास्थय
कन्हैया को कल निम्न रक्तचाप की शिकायत हो गई थी जबकि अफजल गुरू कार्यक्रम के बारे में शिकायत करने वाले एबीवीपी के सौरभ शर्मा के ग्लूकोज के स्तर में गिरावट के बाद एम्स ले जाया गया।
इसलिए भूख हड़ताल पर हैं छात्र
दरअसल, छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार और उनके साथी 9 फरवरी को हुई घटना पर विश्वविद्यालय प्रशासन की ओर से जुर्माना लगाए जाने और कुछ छात्रों को सस्पेंड किए जाने के फैसले का विरोध कर रहे हैं। फैसले का विरोध करते हुए आरोपी छात्रों ने कैंपस में ही भूख हड़ताल शुरू कर दी।
जेएनयू छात्रों की भूख हड़ताल 'गैरकानूनी'
जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के कुलपति जगदीश कुमार ने परिसर में नौ फरवरी को हुए कार्यक्रम के सिलसिले में विश्वविद्यालय द्वारा सुनाई गई सजा के खिलाफ छात्रों की भूख हड़ताल को आज 'गैरकानूनी' गतिविधि करार दिया और छात्रों से कहा कि वे अपनी मांगों को रखने के लिए 'संवैधानिक' तरीकों का इस्तेमाल करें। कार्यक्रम के दौरान हुई कथित राष्ट्र-विरोधी नारेबाजी के सिलसिले में सुनाई गईसजा के विरोध में छात्रों के दो संगठन हडताल कर रहे हैं । हड़ताल का आज सातवां दिन है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top