Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

दिल्ली में हो जाता खून-खराबा, मदरसे के प्रिंसिपल ने रोक लिया

प्रिंसिपल की सूझ-बूझ के कारण दिल्ली में दंगा होते होते रह गया।

दिल्ली में हो जाता खून-खराबा, मदरसे के प्रिंसिपल ने रोक लिया
नई दिल्ली. देश की राजधानी दिल्ली में एक बड़ा ही खतरनाक खून-खराबा होने से रुक गया। एक मदरसे के प्रिंसिपल ने भावनाओं में ना बहकर बुधवार 14 सितंबर की रात दिल्ली में दंगा होने से बचा लिया। प्रिंसिपल की सूझ-बूझ के कारण एक हादसा होते होते रह गया। प्रिंसिपल का नाम अली रुकमान है। 52 साल के अली वेस्ट दिल्ली के प्रेम नगर के एक मदरसे में प्रिंसिपल हैं।
दरअसल मामला यह है कि बकरीद के अगले दिन कुछ कथित गौ रक्षकों ने भैंस की हड्डियां ले जाने पर दो लोगों की पिटाई कर दी थी। जिन लोगों की पिटाई की गई उसमें से एक उनका दामाद भी था। लड़ाई होने के बाद मदरसे के पास उनके समुदाय के लोग जुटने लगे थे। लेकिन अली ने सबको वहां से जाने के लिए कह दिया। उन्होंने कहा कि वह उनके परिवार का निजी मामला है और वह उससे खुद ही निपट लेंगे।
टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक अली ने कहा था कि अपने पैतृक गांव गोरखपुर में उन्होंने काफी दंगे देखे हैं। उन्हें पता है कि दंगों में दोनों तरफ का नुकसान होता है। इसलिए वह अपनी वजह से लोगों को दुख नहीं देना चाहते। अली 25 साल पहले दिल्ली रहने आए थे।
गौरतलब है कि ईद के बाद अली के दामाद हाफिज अब्दुल खालिद और उनका दोस्त अली हसन भैंसों के मांस के बचे हुए टुकड़ों और हड्डियों को फेंकने के लिए टेम्पो में भरकर ले जा रहे थे। लेकिन एक मोटरसाइकिल पर सवार कुछ लोगों ने उन्हें रोक लिया। इसके बाद थोड़ी कहासुनी के बाद दोनों लड़कों ने फोन करके कुछ और लड़कों को बुला लिया और इन दोनों को पीटना शुरू कर दिया। वहां लगभग 24 लड़के जमा हो गए। आरोप है कि दोनों को लोहे की रॉड से पीटा गया।
पुलिस ने इस मामले में चार लड़कों को पकड़ भी लिया है। जिन लड़कों को पकड़ा गया है उनके नाम नवीन, राजू, देवेश और अभिषेक हैं। पुलिस ने चारों लोगों के खिलाफ गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज कर लिया है।
वहीं खालिद और हसन फिलहाल संजय गांधी हॉस्पिटल में भर्ती हैं। दोनों को फिलहाल कुछ दिन वहीं रहना पड़ेगा। हसन ने बताया कि वे लोग ऐसे किसी संगठन का नाम ले रहे थे जो जिसके बारे में उन्होंने पहले कभी नहीं सुना था। हसन और खालिद टेम्पो में 18 भैंसों की हड्डियां और बचा हुआ मांस ले जा रहे थे।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top