Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

ताई की क्लास में विद्यार्थी बने विधायक

ख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी नए हैं और प्रधानमंत्री भी नए हैं। दोनों को संतुलन बनाना होगा।

ताई की क्लास में विद्यार्थी बने विधायक

नई दिल्ली. लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन (ताई) की क्लास में दिल्ली के विधायक पहुंचे और उन्होंने सार्थक बहस के तरीखे भी सीखे। मंगलवार से दिल्ली विधानसभा में आयोजित हुए दो दिवसीय विधायकों के लिए प्रबोधन कार्यक्रम में सुमित्रा महाजन ने कहा कि व्यक्ति अपने अनुभव से सीखता है।

ये भी पढ़ें : दिल्ली: जेल वैन में दो गैंगों के बीच मुठभेड़, 2 की मौत और 5 कैदी घायल

दिल्ली के मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री दोनों ही नए हैं। ऐसे में यह नहीं कहा जा सकता कि तुम से यह अपेक्षा नहीं थी। यह सार्थक नहीं होगा। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी नए हैं और प्रधानमंत्री भी नए हैं। दोनों को संतुलन बनाना होगा। दिल्ली विधानसभा के कई सदस्य अपनी वरिष्ठता के आधार पर उच्च स्तर तक पहुंचे हैं। उनके काम और कार्य से सीखने की जरुरत है।

उन्होंने कहा कि दिल्ली क्योंकि विशेष परिस्थिति का राज्य है यहां ऐसे में यहां काम करने के तरीके को विशेष स्तर पर सीखना होगा। अब आंदोलन देश की आजादी के लिए नहीं होता, सरकार के खिलाफ होता है। इस दौरान विशेष तौर पर सरकारी संपत्ति का ध्यान रखना चाहिए। सड़क पर दिया गया भाषण और विधानसभा में दिया गया भाषण एक नहीं होता, दोनों का अपना महत्व है और अंतर है।

ये भी पढ़ें : पीएम मोदी से केजरीवाल का वादा, आपका सपना पूरा करेंगे हम - मांगा साथ

उन्होंने कहा कि यदि आप अपने आप को ऊंचा मानते हैं तो उस स्तर का काम भी करना चाहिए लेकिन जमीन पर रहकर। इंसान को उतना ही दिखना चाहिए जिसनी की क्षमता हो। उन्होंने कहा कि यदि कोई विधायक सरकार के खिलाफ कुछ बोलता है तो उसे गंभीरता से सुनना चाहिए। उसे अपनी बात रखने का पूरा मौका दिया जाना चाहिए। विधानसभा में विधायक को अपनी बात गंभीरता से रखना चाहिए जिससे भविष्य में उनकी गंभीरता को याद किया जाए।

नीचे की स्लाइड्स में पढें, सास-बहू के झगड़े में उलझी दिल्ली-
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top