Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कोटक महिंद्रा बैंक का मैनेजर गिरफ्तार, हवाला कारोबारियों से संपर्क

इस मामले में दो लोगों को क्राइम ब्रांच पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है।

कोटक महिंद्रा बैंक का मैनेजर गिरफ्तार, हवाला कारोबारियों से संपर्क
नई दिल्ली. देश में नोटबंदी के बाद बैंक में जमा हुए करोड़ों रुपये की जांच अब ईडी ने और तेज कर दी है। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने नोटबंदी के बाद नौ कथित फर्जी बैंक खातों में 34 करोड़ रुपये जमा किए जाने पर कोटक महिंद्रा बैंक के एक मैनेजर को गिरफ्तार किया है। बता दें कि ईडी की टीम बैंक मैनेजर से पूछताछ कर रही है। गिरफ्तार किए गए मैनेजर का कनेक्शन कोलकाता के मशहूर कारोबारी पारसमल लोढ़ा और दिल्ली के वकील रोहित टंडन से बताया जा रहा है।
हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक, ईडी के सूत्रों के मुताबिक हरियाणा का रहने वाले बैंक मैनेजर आकाश के हवाला कारोबारियों से भी संबंध हैं और बैंक में बड़े पैमाने पर कालेधन को सफेद किया गया। इसी मामले में ईडी ने इसे गिरफ्तार किया है। इसके अलावा एक और मामले में आयकर विभाग और क्राइम ब्रांच ने बैंक में 9 फर्जी अकाउंट खुलासा किया था। इस मामले में दो लोगों को क्राइम ब्रांच पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है। दोनों के नाम रंजीत और राजकुमार गोयल हैं। कुछ 66 करोड़ रुपया जमा हुआ था। बाद में यह पैसा एक ज्वैलर्स दिया गया था। उसका अकाउंट चांदनी चौक में था। यह एक्सिस बैंक का अकाउंट था और यहां भी फर्जी अकाउंट खोला गया था।
तो वहीं दूसरी तरफ सरकार को उम्मीद थी कि कालेधन के तौर पर छुपाए गए कम से कम 3 लाख करोड़ रुपए मूल्य के 500 और 1000 के पुराने नोट वापस नहीं होंगे। ऐसा होने पर भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआइ) सरकार को अच्छा-खासा लाभांश भी देता। हालांकि, बैंकों में अब तक जमा हुए नोटों की मात्रा से ऐया लगता है कि जिन लोगों के पास कालाधन था, उन्‍होंने उसे सफेद करने में कामयाबी हासिल कर ली है।

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

Next Story
Top