Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

केजरीवाल का व्यवहार ब्लैकमेलर जैसा : भाजपा

घोटाले पर पर्दा डालने की कोशिश में केजरीवाल

केजरीवाल का व्यवहार ब्लैकमेलर जैसा : भाजपा

नई दिल्ली. दिल्ली विधान सभा में नेता प्रतिपक्ष विजेन्द्र गुप्ता ने शनिवार को प्रेसवार्ता कर कहा है कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का व्यवहार एक ब्लैकमेलर जैसा है। केजरीवाल सरकार 400 करोड़ रुपये के वाटर टैंकर घोटाले और प्रीमियम एप बस सेवा घोटाले में खुद को फंसा पा रही है। गुप्ता का आरोप है कि सीएम उनके व उनकी पत्नी पर सार्वजनिक जीवन में किए कार्यों को लेकर ओछे आक्षेप लगा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि एक तरफ मुख्यमंत्री सिख हित की बात करते हैं। दूसरी तरफ दशकों से शारीरिक और आर्थिक रूप से दिव्यांग 72 वर्षीय अशक्त तथा दूसरों पर निर्भर महिला को नगर निगम द्वारा दी गई पेंशन का चैक देने के दूसरे दिन ही वापस लेने का आदेश जारी करते हैं। इससे उनके फर्जी सिख प्रेम के नाटक का खुलासा हो जाता है।

घोटाले पर पर्दा डालने की कोशिश में केजरी : भाजपा
टैंकर खरीद घोटाला को लेकर भाजपा ने एक बार फिर से अरविंद केजरीवाल पर कार्रवाई ना करने का आरोप लगाते हुए पूरे मामले पर पर्दा डालने का आरोप लगाया है। दिल्ली प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सतीश उपाध्याय ने कहा कि दिल्ली सरकार कार्रवाई ना करके पूरी तरह से बेनकाब हो गई है। चुनाव से पूर्व केजरीवाल दावा करते थे कि सबूत उनके पास मौजूद है। पर सत्ता में काबिज होने के बाद सरकार ने कभी भी घोटले की जांच कराने के लिए कोई पहल नहीं की। विस के विशेष सत्र में कोई नहीं जानता कि नगर निगमों पर क्या चर्चा हुई, सरकार बार-बार पत्रकारों के माध्यम से नगर निगमों को भ्रष्ट एवं निष्क्रिय कहती है, लेकिन विधानसभा के सत्र में ऐसी कोई बात सरकार ने नहीं कही, जो यह प्रमाणित करता है कि केजरीवाल सरकार के सारे आरोप नगर निगमों पर राजनीति से प्रेरित हैं।
पेंशन पर दी सफाई
विजेन्द्र गुप्ता ने कहा कि 72 वर्षीय हरभजन कौर को पार्षद डॉ. शोभा विजेन्द्र द्वारा पेंशन दिलवाए जाने के विवाद पर बालते कहा कि डॉ. शोभा ने केवल पेंशन की संस्तुति की थी और वह भी प्रस्तुत किए गए एफीडेविट के साक्षयों के आधार पर। सरकार को अपनी पेंशन लौटा देने वाली बुजुर्ग दिव्यांग महिला हरभजन कौर को 3000 रुपए का पेंशन चैक तीन फरवरी 2015 को प्राप्त हुआ था। पेंशन का दूसरा चैक उन्हें 10 मई 2016 को मिला। अचानक 11 मई 2016 को केन्द्रीय सूचना आयोग ने हरभजन कौर को पत्र द्वारा सूचित किया कि वे पेंशन पाने की हकदार नहीं हैं।
उपाध्याय ने कहा कि भाजपा मांग करती है कि दिल्ली सरकार सोमवार 13 जून को विधानसभा के विस्तारित सत्र में दिल्ली जल बोर्ड 400 करोड़ रुपए के पानी के टैंकर घोटाले, प्रीमियम एप बस सेवा घोटाले और सीएनजी घोटाले पर साक्ष्यों के साथ वक्तव्य रखें। उनके परिवार ने तुरन्त कुछ दिनों में ही पे आर्डर संख्या 217023 पंजाब एंड सिन्ध बैंक के द्वारा प्राप्त पेंशन धनराशि 6000 रुपए सरकार को वापस लौटा दी।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलोकरें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top