Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने किया ट्वीट- ''सम-विषम के खिलाफ हैं मोदी''

दिल्ली में सम-विषम का दूसरा चरण 15 अप्रैल से एक बार फिर लागू हो गया है, जो कि 30 अप्रैल तक चलेगा।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने किया ट्वीट-

नई दिल्ली. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शनिवार को ट्वीट कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा है कि जहां पूरी दिल्ली व दुनिया सम-विषम योजना को सफल बनाने में लगी हुई है, वहीं पीएम मदी योजना की सफलता को पचा नहीं पा रहे हैं।

उन्होंने यह भी ट्वीट किया कि भाजपा के अन्य नेता भी सम-विषम को फेल करने पर तुले हुए हैं। केजरीवाल ने भाजपा पर आरोप लगाते हुए कहा है कि वो चाहते हैं कि सम-विषम फेल हो जाए। यही कारण है कि भाजपा दिल्ली की जनता से कह रही है कि वे सम-विषम को न मानें। केजरीवाल ने राज्यसभा में भाजपा सांसद विजय गोयल के ट्वीट को रीट्वीट करते हुए भाजपा को निशाने पर लिया है। इसके साथ ही केजरीवाल ने दिल्ली की जनता पर भरोसा जताते हुए कहा कि यहां के लोग भाजपा के इस मंसूबे को फेल कर देंगे।
दूसरे दिन कटे 678 चालान
राजधानी में ऑड- इवन के दूसरे दिन ट्रैफिक पुलिस ने 678 चालान काटे। दोपहर एक बजे तक पुलिस की तरफ से 437 चालान काटे गए थे। इनमें 395 कैश चालान और 42 कोर्ट चालान शामिल हैं। शाम आठ बजे तक यातायात पुलिस द्वारा चालान का आंकड़ा 678 पहुंच गया। यातायात पुलिस अधिकारियों के अनुसार रात आठ बजे तक सेंट्रल रेंज में 86, ईस्टर्न 97, नॉदर्न 56, सदर्न रेंज 202, वेस्टर्न रेंज 142 और आउटर रेंज में 95 चालान काटे गए थे।
सम-विषम योजना से बढ़ रहा भाईचारा
दिल्ली में दूसरी बार शुरू हुई सम-विषम योजना ने वह काम कर दिया जो आज तक कोई सरकार नहीं कर पाई। हालांकि पहली योजना में लोग आपस में जुड़ नहीं पाये थे लेकिन इस बार जो लोग छोटी-छोटी बातों पर एक-दूसरे को नीचा दिखाने की कोशिश करते थे आज वही लोग एक साथ बैठकर सफर कर रहे हंै। यह चमत्कार ही है कि आज से पहले सोसायटियों व कॉलोनियों में रहने वाले लोग बामुश्किल एक-दूसरे को जानते थे लेकिन आज वही लोग आपसी सद्भाव व भाईचारे को बढ़ा रहे हैं।

सीएम के ट्वीट पर भाजपा का पलटवार
दिल्ली भाजपा अध्यक्ष सतीश उपाध्याय ने शनिवार को कहा है कि मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल के ट्वीट के झूठ का खेल अब समापन की ओर है। केजरीवाल ने ट्वीट के माध्यम से कहा था कि भाजपा सम-विषम को विफल करना चाहती है। उपाध्याय ने कहा कि निश्चित तौर पर भाजपा सम-विषम के नाम पर हो रही आर्थिक धांधलियों एवं जनता को दी जा रही असुविधा का विरोध करती है।
पुलिस अफसरों का कहना है कि पहले तीन दिन छुट्टी के थे इसलिए सोमवार से चालान की संख्या बढ़ने की उम्मीद है। ऑड- ईवन के पहले दिन यानि शुक्रवार को यातायात पुलिस ने 884 चालान काटे थे। वहीं ट्रांसपोर्ट ने 427 चालान काटे थे। इस प्रकार पहले दिन कुल 1311 चालान काटे गए थे। पहली सम-विषम योजना 1 जनवरी से 15 जनवरी तक चली थी, जिसमें आम जनता व प्रशासनिक अधिकारी काफी असमंजस में रहे थे लेकिन इस बार न केवल सरकार व अधिकारी अपनी पिछली गलतियों में सुधार कर रहे हैं अपितु जनता का भी सम-विषम पर भ्रम खत्म हो चुका है।
एक ही कालोनी या सोसायटी में रहने वाले लोग या तो बस में सफर कर रहे हैं या फिर अपने पड़ोसियों के साथ गाड़ी शेयर कर अपनी राह आसान कर रहे हैं। द्वारका जैसी उपनगरी में इस बार इस योजना के दूसरे ही दिन नजारा कुछ बदला-बदला सा दिखा। अनेकों सोसायटियों के लोग इस बार खुलकर कार शेयर कर रहे है, इतना ही नही सोसायटियों में भी आरडब्ल्यूए पदाधिकारी बैठकों का आयोजन कर लोगों को कार शेयरिंग के लिए प्रेरित कर रहे है।
इस संबंध में जब लोगों से पूछा गया तो पालम निवासी चमनलाल भट्ट, बिंदापुर निवासी मनोज नेगी व नेशनल अपार्टमैंट के सदस्य सी.पी. सिंह ने बताया कि इसमें कोई शक नही की सम-विषम पर अब लोग जागरूक हो चुके है। पर्यावरण को देखते हुए दिल्ली में रहने वालों के लिए इस तरह की योजना अब जरूरी हो चुकी हैं। उन्होने बताया कि दिल्ली में लोगों की जिंदगी इतनी व्यस्त है कि उनके पास इतना समय भी नही होता की वे कम से कम अपने पड़ोसी को तो जान सके।
लेकिन इस योजना ने न केवल लोगों को यह मौका दिया बल्कि इस योजना से लोगों में भाईचारा भी बढ़ा है। हालांकि कुछ लोग इसे आप सरकार की एक राजनीतिक चाल बता रहे है और सरकार पर लोगों को बेवकूफ बनाने का आरोप लगा रहे हैं। इस संबंध में मटियाला विधायक गुलाब सिंह ने द्वारका में काफी सफल दिख रही सम-विषम योजना पर बताया कि सम-विषम को लेकर 15 अप्रैल से शुरू हुई दूसरी पाली में सरकार ने पहले ही पिछली गलतियों मे सुधार कर लिया है। वहीं सरकार ने आम आदमी से लेकर सरकारी व गैर सरकारी संस्थाओं से भी उनके विचार जानने की कोशिश की है।
जिसकारण इस बार इस योजना पर भ्रम कम व काम ज्यादा दिखाई दे रहा है। वहीं नजफगढ़ जैसे शहर में जहां कभी जाम खत्म ही नही होता वहां भी लोग सम-विषम का पालन कर अपनी राह आसान कर रहे है। इस सफलता पर नजफगढ विधायक की माने तो सिविल डिफैंस व कुछ एनजीओ कार्यकर्ता पुलिस के साथ मिलकर अच्छा काम कर रहे है। साथ ही आम आदमी भी इस योजना को सफल बनाने में अपनी जिम्मेदारी अब समझने लगा है।
उपाध्याय ने कहा कि पिछली बार भी सम-विषम के दौरान हमने सिविल डिफेंस के नाम पर होने वाली धांधली का विषय उठाया था और आज हम निजी बस ऑपरेटरों को भारी लाभ पहुंचाने की धांधली की जांच की मांग करते हैं। उन्होंने कहा कि पिछली बार लगभग 14 करोड़ रुपए का अनुचित लाभ निजी बस मालिकों को पहुंचाया गया और संभव है कि इनसे कुछ न कुछ लाभ सत्ताधारी दल को वापस मिला हो।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलोकरें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top