Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

दिल्ली सरकार की गलती का खामियाजा भुगत रही जनताः विजेंद्र गुप्ता

सरकार ने खाली पड़े पदों को भरने के लिए कोई व्यवस्था नहीं की।

दिल्ली सरकार की गलती का खामियाजा भुगत रही जनताः विजेंद्र गुप्ता
नई दिल्ली. नेता प्रतिपक्ष विजेंद्र गुप्ता ने कहा है कि दिल्ली सरकार के विभिन्न विभागों और नगर निगमों में रिक्त पड़े बी और सी श्रेणी के 60,000 से अधिक पद आज तक खाली पड़े हुए है। इन पदों को भरने के लिए दिल्ली सरकार की ही संस्था दिल्ली अधीनस्थ सेवा चयन बोर्ड, डीएसएसएसबी, योग्य उम्मीदवारों का चयन आजतक नहीं कर पाई है। सरकार ने खाली पड़े पदों को भरने के लिए कोई व्यवस्था नहीं की है। इसका खामियाजा दिल्ली के दो करोड़ नागरिक सरकारी सुविधाओं के अभाव के रूप में भुगत रहे हैं।
यह वक्तव्य नेता प्रतिपक्ष विजेंद्र गुप्ता ने रविवार को व्यक्त किए। उन्होंने दिल्ली सरकार से मांग की है कि डीएसएसएसबी को तुरंत भंग करके खाली पड़े पदों को तुरंत भरने के लिए नई व्यवस्था बनाए। डीएसएसएसबी अध्यापकों, नर्सों, जूनियर इंजीनियर, क्लर्क तथा अन्य प्रशासनिक दिल्ली नगर निगमों में खाली पड़े पदों पर योग्य उम्मीदवार चुनकर सरकार को नहीं दे पा रहा है, तो सरकार अबतक क्या कर रही है।
गुप्ता ने बताया कि डीएसएसएसबी के गठन के बाद सरकार के सभी विभागों तथा नगर निगम से कर्मचारी भर्ती करने का अधिकार छीनकर बोर्ड को दे दिया गया। गठन के बाद से डीएसएसएसबी अपना दायित्व निभाने में पूरी तरह असफल रहा है। गुप्ता ने डीएसएसएसबी की नाकामी का मुद्दा सदन में उठाया था।
उन्होंने बोर्ड को भंग करने की मांग सरकार से की थी क्योंकि बोर्ड दिल्ली सरकार के अंतर्गत ही आता है। सरकार तमाशबीन बनी रही। उसने बोर्ड को भंग नहीं किया। परिणाम सामने है कि सरकार को अदालत में शपथ पत्र दाखिल करके कहना पड़ रहा है कि डीएसएसएसबी की नाकामी के कारण ही दिल्ली के स्कूलों में शिक्षकों का जबरदस्त अभाव है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top