Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

नोटबंदी पर बोले केजरीवाल- देश में इमरजेंसी जैसे हालात, लोग भूखे से मर रहे हैं

केजरीवाल ने मोदी से नोटबंदी के फैसले को वापस लेने की मांग की।

नोटबंदी पर बोले केजरीवाल- देश में इमरजेंसी जैसे हालात, लोग भूखे से मर रहे हैं

नई दिल्‍ली. देश में 500 और 1000 रुपये के पुराने नोट बंद करने के बाद हो रही दिक्‍कतों के बाद दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने केंद्र सरकार और पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए नोट बंद होने से पूरे देश में इमर्जेंसी जैसे हालात पैदा हो गए हैं। प्रधानमंत्री जापान से आए और नोटबंदी के कारण लोगों को हो रही दिक्‍कत के पर 50 दिन तक सहयोग करने की मांग की, तो क्‍या आम आदमी अगले 50 दिनों तक और कष्‍ट उठाता रहेगा।

क्‍या लोगों को अगले 50 और दिनों तक लाइन में खड़े होकर गुजारने होंगे। जिस दिन उन्‍होंने ऐलान किया था उस दिन तो कहा था कि दो दिनों मे सब ठीक हो जाएगा, दो दिनों में सभी जगह पैसा पहुंच जाएगा। अगले दिन उन्‍होंने कहा कि 10 दिन लगेंगे, फिर अरुण जेटली जी ने कहा कि दो-तीन हफ्ते लगेंगे और अब पीएम कह रहे हैं कि 50 दिन लगेंगे। अब तो ऐसी हालत हो गई है कि जनता 50 दिन तो क्‍या 50 घंटे तक इंतजार करने के मूड में नहीं है। पूरे देश में इमर्जेंसी जैसे हालात हैं। लोग भूखों मर रहे हैं।'

फैसले को वापस ले लीजिए
केजरीवाल ने कहा कि गोवा में प्रधानमंत्री के भाषण के बाद से लोगों के बीच काफी डर का माहौल है और मुझे कई लोगों ने इस बारे में कॉल किया है। दूसरा, बहुत दुख हुआ पीएम का भाषण सुनकर। उन्‍होंने लाइनों में लगे लोगों के लिए जिस तरह की भाषा इस्‍तेमाल की। उन्‍होंने लोगों का मजाक उड़ाया और उन्‍हें माफी मांगनी चाहिए। उन्‍होंने आज बार-बार कहा कि सवा सौ करोड़ लोग तो ईमानदार हैं, कुछ लाख लोग बेईमान हैं। तो कुछ लाख लोगों को क्‍यों नहीं पकड़ते। उन्‍होंने कहा, 'मोदी जी अहंकार छोड़िए और नोटबंदी के फैसले को वापस ले लीजिए। नोटबंदी का फैसला वापस लेने के अलावा और कोई दूसरा उपाय नहीं है। सरकार चाहे तो इंतजाम पुख्ता कर इस नियम को फिर से लागू कर सकती है।'
सारी व्यवस्था बिगड़ जाएगी
केजरीवाल ने कहा कि अगर मोदी ने नोटबंदी के फैसले के बारे में चुनाव से पहले बता दिया होता तो उन्‍होंने एक भी वोट नहीं मिलता। केजरीवाल ने कहा, 'अगर आपने चुनाव के पहले बता दिया होता कि 500 और 1000 रुपये के नोट बंद करके लोगों की ऐसी-तैसी करोगे तो एक आदमी ने आपको वोट नहीं दिया होता। जिनके पास स्विस बैंकों में खाते हैं, उनके खिलाफ आपने कोई कार्रवाई नहीं की और आम जनता को परेशान किया। आपने कहा कि सिर्फ 50 दिन की समस्या है, लेकिन इतने दिनों में सारी व्यवस्था बिगड़ जाएगी।'
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top