Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

JNU: दूसरे दिन नजीब की तलाश में कैंपस पहुंची पुलिस, कोई सुराग नहीं

लापता छात्र नजीब की तलाश में सोमवार को करीब 1,000 पुलिसकर्मियों ने जेएनयू कैंपस का चप्पा-चप्पा छान मारा था।

JNU: दूसरे दिन नजीब की तलाश में कैंपस पहुंची पुलिस, कोई सुराग नहीं
नई दिल्ली. पिछले दो महीने से जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) के लापता छात्र नजीब की तलाशी अब और भी तेज हो गई है। बता दें कि नजीब की तलाश में मंगलवार को भी दिल्ली पुलिस पूरी तैयारी के साथ कैंपस में छापे मारी कर रही है। तो वही दूसरी तरफ लापता छात्र नजीब की तलाश में सोमवार को करीब 1,000 पुलिसकर्मियों ने विश्वविद्यालय परिसर का चप्पा-चप्पा छान मारा, लेकिन उसका कोई सुराग हाथ नहीं लगा।
एनबीटी की न्यूज के मुताबिक, मंगलवार को भी क्राइम ब्रांच की टीमें जेएनयू परिसर की चप्पा-चप्पा छानेगी। इसके अलावा इस केस से जुड़े कुछ आरोपियों का लाइव डिटेक्टर टेस्ट भी किया जाएगा। बताया जा रहा है कि लगभग 600 की संख्या में पुलिसवाले खोजी कुत्तों के साथ हर जगह की तलाशी ले रहे हैं। इस दौरान पुलिस के कई वरिष्ठ अधिकारी कैंपस में ही मौजूद हैं। इनमें डीसीपी के अलावा, 12 एसीपी, 30 इंस्पेक्टर और 60 सब-इंस्पेक्टर शामिल हैं।
संयुक्त पुलिस आयुक्त रविन्द्र यादव ने बताया कि सोमवार को जेएनयू परिसर का करीब साठ प्रतिशत हिस्से को तलाशा गया जबकि बाकी स्थलों पर गहन छानबीन मंगलवार को की जाएगी. तलाशी अभियान सुबह सात बजे के आसपास शुरू हुआ और लगभग 10 घंटे के बाद जब अंधेरा होना शुरू हो गया, तब बंद हुआ।
एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि तलाशी अभियान में 20 खोजी कुत्तों को लगाया गया, जिसने परिसर में स्थित जंगल के 60 फीसदी इलाकों की छान मारी। पुलिस उपायुक्त (अपराध शाखा) रवींद्र यादव ने कहा कि इस बात की पुख्ता संभावना है कि नजीब की हत्या कर उसे परिसर में कहीं गाड़ दिया गया होगा या उसके शरीर को क्षत-विक्षत कर ठिकाने लगा दिया गया होगा।
यूपी के बदायूं जिले का रहने वाला 27 वर्षीय नजीब जेएनयू में स्कूल ऑफ बायोटेक्नोलॉजी का छात्र है। वह विश्वविद्यालय परिसर में विक्रांत सहित एबीवीपी के कार्यकर्ताओं के साथ हुई कथित हाथापाई के एक दिन बाद यानी 15 अक्तूबर से लापता है। जेएनयू ने घंटना के संबंध में प्रॉक्टर की निगरानी में जांच के आदेश दिए थे।

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

Next Story
Top