Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

इसलिए होती है जंतर-मंतर से आवाज बुलंद

राजधानी होने के कारण दिल्ली का जंतर-मंतर आजादी के बाद भी देश का सबसे प्रसिद्ध विरोध-प्रदर्शन बनकर उभरा।

इसलिए होती है जंतर-मंतर से आवाज बुलंद
नई दिल्ली. वैसे दुनिया के प्रत्येक देश में एक लोकप्रिय विरोध-प्रदर्शन स्थल है। जैसे ट्राफलगर स्क्वायर (लंदन), यूनियन स्क्वायर (न्यूयॉर्क), तहरीर स्क्वायर (काहिरा) आदि जहां लोग सरकार तक अपनी आवाज पहुंचाने और उसका विरोध जताने के लिए एकत्रित होते है। भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्रिक देश है। इसलिए यहां भी हर राज्य में एक न एक फेमस विरोध-प्रदर्शन स्थल है। किन्तु राजधानी होने के कारण दिल्ली का जंतर-मंतर आजादी के बाद भी देश का सबसे प्रसिद्ध विरोध-प्रदर्शन बनकर उभरा। इसलिए सभी राज्यों के लोग, संस्थाएं अपनी-अपनी मांगों को लेकर जंतर-मंतर पर प्रदर्शन करने के लिए आते है। यहां हुए आन्ना हजारे का जनलोकपाल आंदोलन, जस्टिस फॉर निर्भया, जस्टिस फॉर नीडो तानिया और तेलंगाना प्रोटेस्ट बड़े प्रदर्शनों में शामिल हैं।
हालांकि पहले यहां कम ही प्रदर्शन होते थे, बल्कि राजपथ के पास स्थित बोट क्लब पर विरोध प्रदर्शन होता था। बोट क्लब पर हुई कुछ बड़ी रैलियों में 5 लाख लोगों तक ने भाग लिया गया था। बाद में संसद भवन के करीब होने, सुरक्षा कारणों से और लोगों की बड़ी भीड़ के कारण ही सरकार ने बोट क्लब पर प्रदर्शन को प्रतिबंधित कर दिया था। इसी के बाद से जंतर-मंतर पर छोटे-बड़े विरोध प्रदर्शन होने लगे। प्रसिद्घ इतिहासकार रामचंद्र गुहा ने अपनी किताब ‘भारत गांधी के बाद’ में जंतर-मंतर के विरोध-प्रदर्शन के बारे में लिखा है और जंतर-मंतर का ‘मिनी इंडिया’ के रूप में वर्णन किया है। आईये आपको बताते है कि किन-किन कारणों से भारत में जंतर-मंतर प्रदर्शनकारियों के लिए विरोध जताने का पसंददीदा स्थल बन गया।
लोकेशन
जंतर-मंतर संसद भवन के पास स्थित है और यह एक प्रतीकात्मक लाभ देता है। इसका ऐतिहासिक महत्व भी है। इसका निर्माण महाराजा जयसिंह द्वितीय ने 1724 में करवाया था। 1857 क्रांति की लड़ाई के दौरान यह कुछ क्षतिग्रस्त हो गया था, लेकिन बाद में इसकी मरम्मत कर दी गई थी। यह भारत की आजादी से पहले छोटे और बड़े विरोध-प्रदर्शन के लिए एक स्थल बन गया था।
ट्रैक रिकॉर्ड
जंतर-मंतर पर कई बड़े विरोध-प्रदर्शन हो चुके है। जंतर-मंतर को जन लोकपाल विधेयक के लिए अन्ना हजारे के जन आंदोलन के लिए एक साइट के रूप में इस्तेमाल किया गया था। यहां से कई विरोध-प्रदर्शन सफल होने के कारण यह एक विरोध-प्रदर्शन के लिए प्रसिद्ध स्थान गया है। अब अगर हम यह सुनते है कि जंतर-मंतर पर लोग विरोध-प्रदर्शन कर रहे है तो यह बात निश्चित रूप से हमारा ध्यान आकर्षित करती है।
विश्व के कुछ फेमस प्रदर्शन स्थल

स्थल शहर देश

जंतर-मंतर
दिल्ली भारत
तहरीर स्क्वायर काहिरा मिस्र
त्यानआनमेन चौक बीजिंग चीन
आजादी स्क्वायर, तेहरान ईरान
प्लेस डी ला बेस्टिले पेरिस फ्रांस
लास ट्रेस सांस्कृतिक मेक्सिको सिटी मेक्सिको
डिसेमलस्टि स्क्वायर सेंट पीटर्सबर्ग रूस
ट्राफलगर स्क्वायर लंदन ब्रिटेन
स्वतत्रंता स्क्वायर कीव यूक्रेन
यूनियन स्क्वायर न्यूयॉर्क शहर अमेरिका
आगे की स्लाइड्स में पढ़िए, खबरों से जुड़ी अन्य जानकारी -
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

Next Story
Top