Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

टॉकिंग पेन को लेकर लोगों में खासा उत्साह

बच्चों में डिज्नी इंग्लिश की डीवीडी भी काफी पसंद की जा ही है।

टॉकिंग पेन को लेकर लोगों में खासा उत्साह
नई दिल्ली. नर्सरी राइम्स की रंगीन पॉप-अप वाली किताबें, लोक कथाएं, बच्चों को सोने के समय सुनाई जाने वाली कहानियों के डीवीडी और तेजी से सीखने में मददगार उपकरण इस वर्ष के दिल्ली पुस्तक मेले में आकर्षण के केंद्र हैं। दो से 15 वर्ष तक की आयु के बच्चे अंग्रेजी और हिंदी में उपलब्ध किताबों में से अपने पसंदीदा पात्र या कहानियां चुन रहे हैं।
ये किताबें ना सिर्फ बच्चों को आकर्षित कर रही हैं बल्कि उनकी कल्पना करने की क्षमता और पढ़ने की आदत विकसित करने में भी मददगार साबित हो रही हैं। अमेरिका के प्रकाशक ग्रॉलियर ने टॉकिंग स्टोरी बुक्स पेश किए हैं, जिसमें बच्चों के बोलने और लिखने की क्षमता को और बेहतर बनाने पर खास ध्यान दिया गया है।
करीब 19,000 रुपये का टॉकिंग पेन को लेकर भी लोगों में खासा उत्साह देखा जा रहा है। ये आपस में संपर्क साधने के लिहाज से उपयुक्त उपकरण है। बच्चों में डिज्नी इंग्लिश के डीवीडी को लेकर भी बहुत उत्साह देखा गया, जिसमें उनके पसंदीदा पात्र प्रसिद्ध फिल्मों की कहानियों, गीतों के साथ-साथ गेम को पेश करते हैं।
बुक फेयर में अपनी पसंद की किताबों की खरीदारी करने आए पुस्तक प्रेमियों को प्रगति मैदान में चल रहा स्टेशनरी मेला आकर्षित कर रहा है। किताबों की खरीदारी के साथ लोग स्टेशनरी की भी खरीद रहे हैं। विभिन्न रंगों और डिजाइनों में उपलब्ध फाइलों के अलावा कार्यालय और घरों में काम आने वाले कलम और पेंसिल की खूब बिक्री हो रही है। डायरी, कैलेंडर, मार्कर और नोट पैड भी स्टेशनरी मेला में उपलब्ध है।
प्रगति मैदान में चल रहे पुस्तक मेले में दिल्ली नगर निगम के छात्र भी अपना जलवा बिखेर रहे हैं। मेले में फेडरेशन ऑफ इंडियन पब्लिशर्स द्वारा चित्रकला प्रतियोगिता में उत्तरी दिल्ली निगम के प्राथमिक विद्यालय के लगभग 500 छात्रों ने हिस्सा लिया। विजेता छात्रों को विधानसभा में नेता विपक्ष विजेंद्र गुप्ता ने पुरस्कार प्रदान किए।
इस बारे में उत्तरी दिल्ली की शिक्षा समिति की अध्यक्ष ममता नागपाल ने बताया कि पुस्तक मेले में निगम विद्यालय के बच्चे अपनी कला का हुनर बिखेर रहे हैं। उन्होंने बताया बच्चों की रचनात्मकता को और अधिक बढ़ावा देने के लिए आयोजकों द्वारा बच्चों को पेंसिल, रबड़ व कहानियों की किताबें भेंट दी गई।
मेले में पंचतंत्र, चाचा चौधरी और जातक के खरीदारों की संख्या भी बहुत अधिक है। भारतीय प्रकाशक महासंघ के सहयोग से भारत व्यापार संवर्धन संगठन (आईटीपीओ) शहर के प्रगति मैदान में नौ दिन तक चलने वाले 22वें दिल्ली पुस्तक मेले का आयोजन कर रहा है। मेले की शुरुआत 27 अगस्त को हुई थी और यह चार सितंबर तक चलेगा।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top