Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मुसलमानों के लिए भारत से बेहतर कोई देश नहीं है: मौलाना महमूद मदनी

मौलाना ने आतंकवाद के खिलाफ पूरे देश में प्रदर्शन करने का ऐलान किया।

मुसलमानों के लिए भारत से बेहतर कोई देश नहीं है: मौलाना महमूद मदनी
नई दिल्ली. आज़म खान के पेरिस हमले को एक्शन का रिएक्शन बताने वाले बयान को जाने-माने मुस्लिम विद्वान मौलाना महमूद मदनी ने गलत बताया है। मदनी ने कहा कि इस घटना को कतई सही नहीं ठहराया जा सकता है और जिन लोगों ने इसे अंज़ाम दिया है वो सही मायनों में इस्लाम को नहीं मानते हैं। मौलाना महमूद मदनी ने असहिष्णुता को लेकर चल रही बहस के बीच कहा कि मैं पूरी जिम्मेदारी के साथ कहना चाहूंगा कि मुसलमानों के लिए भारत से बेहतर कोई देश नहीं है। मौलाना मोहम्मद मदनी ने कहा कि आतंकवाद की कड़ी निंदा करनी चाहिए और हर किसी को इसके खिलाफ खड़ा होना होगा।
जमीयत के महासचिव मौलाना महमूद मदनी ने यहां आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि बेहद अफसोस की बात है कि कुछ ‘तत्व’ जाने अनजाने में आतंकवादियों को जिहादी मानते हुए उनका रिश्ता इस्लाम से जोड़ देते हैं। जिहाद तो सकारात्मक काम है जो फसाद को खत्म करने के लिए होता है न कि बेकसूरों की जान लेने के लिए। उन्होंने कहा कि हम पेरिस, तुर्की और लेबनान में आतंकी गतिविधियों की कड़ी निंदा करते हैं और इनका शिकार हुए पीड़ितों और उनके परिजनों के साथ पूरी हमदर्दी और संवेदना व्यक्त करते हैं।
मदनी ने कहा कि जमीयत-ए-उलेमा हिंद देश के प्रमुख शहरों में कल आतंकवाद के खिलाफ प्रदर्शन करेगी और जो इसके पीड़ित हैं उनसे हमदर्दी और संवेदना व्यक्त करने के लिए जुलूस निकालेगी। मदनी ने कहा कि इस्लाम के नाम पर जो भी मासूमों को मार रहे हैं, वो इस्लाम के नाम का दुरूपयोग कर रहे हैं क्योंकि इस्लाम किसी को मारने की इजाजत नहीं देता है।
नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, खबर से जुड़ी अन्य जानकारियां-

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top