Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

धड़ल्ले से बेचे जा रहे थे आइकार्ड, स्टीकर और पार्किंग पास

स्टीकर बेचने के आरोप में एक पत्रकार और पूर्व डिप्टी सेक्रेटरी के प्राइवेट ड्राइवर को क्राइम ब्रांच ने गिरफ्तार किया है।

धड़ल्ले से बेचे जा रहे थे आइकार्ड, स्टीकर और पार्किंग पास
नई दिल्ली. दिल्ली विधानसभा की सुरक्षा को बड़ा खतरा हो सकता है। विधानसभा के स्टिकर, पार्किंग पास, आईकार्ड और एमएलए स्टिकर की बड़ी संख्या में बाहरी लोगों के हाथों में पहुँच चुके हैं। स्टीकर बेचने के आरोप में एक पत्रकार और पूर्व डिप्टी सेक्रेटरी के प्राइवेट ड्राइवर को क्राइम ब्रांच ने गिरफ्तार किया है। इनसे पूछताछ जारी है। शुरुआती जांच में पता चला कि विधानसभा के एक कर्मचारी की मिलीभगत से यह काम लंबे समय से किया जा रहा था।
गिरफ्तार किए गए दोनों लोगों का नाम विनोद बंसल और जितेंद्र बताया जाता है। इनके पास से एक चोरी की कार भी बरामद हुई है। ज्वाइंट सीपी रविंद्र यादव के अनुसार दोनों को बाबा साहेब अंबेडकर अस्पताल के सामने स्थित डी मॉल से गिरफ्तार किया गया। विनोद बंसल रोहिणी के अवंतिका सेक्टर-1 और जितेंद्र बुराड़ी के संत नगर का रहने वाला है।
पुलिस पूछताछ में पता चला कि विनोद बंसल खुद को न्यूज चैनल का रिपोर्टर तो कभी विधानसभा का कर्मचारी बताता था। स्टीकर के एवज में वह मोटी रकम लोगों से लेता था। इसके पास से दिल्ली विधानसभा की एक फर्जी स्टैंप भी बरामद की गई है। जितेंद्र पूर्व डिप्टी सेक्रेटरी, विधानसभा लालमणि का प्राइवेट ड्राइवर है। विनोद बंसल ने बताया कि वह पहले लालमणि से स्टीकर लेता था।
उनके ट्रांसफर के बाद जितेंद्र उसे स्टीकर और पास मुहैया करवाने लगा था। जितेंद्र ने बताया कि उसे यह सब सामान विधानसभा के खत्री नामक कर्मचारी से हासिल होते थे। पुलिस खत्री की तलाश में छापेमारी कर रही है। बंसल 10वीं कक्षा तक पढ़ा है। शुरु में करीब दो साल उसने फोटोग्राफरी की। इसके बाद वह प्रेस रिपोर्टर बन गया। गत कई सालों से वह स्टीकर, आईकार्ड और पार्किंग पास बेचकर मोटा कमा रहा था।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलोकरें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top