Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

करोल बाग: HDFC में जमा हुए 150 करोड़, ED ने मांगा जवाब

ईडी ने तीन खातों में बेनिफिशरीज का पता लगा लिया है।

करोल बाग: HDFC में जमा हुए 150 करोड़, ED ने मांगा जवाब
नई दिल्ली. प्रदर्शन निदेशालय (ईडी) ने राजधानी दिल्ली के करोल बाग इलाके में स्थित एचडीएफसी बैंक की एक शाखा के करीब आधा दर्जन खातों में सर्वे कर 150 करोड़ की संदिग्ध रकम जमा होने का पता लगाया है। ईडी ने यह कार्रवाई बीते सप्ताह फाइनैंशल इंटेलिजेंस यूनिट (FIU) से जानकारी मिलने पर की थी। इनमें से कुछ खातों में 8 से 25 नवंबर के बीच 30 करोड़ रुपये हर खाते में जमा हुए और वहां से कुछ दूसरे लोगों को ट्रांसफर कर दिए गए। जिन खातों में पैसा ट्रांसफर किया गया है, उन पर 'एंट्री ऑपरेटर्स' होने का शक है।
बड़ी राशि कैश में जमा
इकोनॉमिक्स टाइम्स की खबर के मुताबिक, 'एंट्री ऑपरेटर्स' का इस्तेमाल जांच एजेंसियां हवाला डीलर्स और शैल कंपनी चलाने वालों के लिए करती हैं। शैल कंपनी बनाने वाले लोग फर्जी पते पर बैंक अकाउंट खुलवाते हैं जिसके बाद इन अकाउंट्स में वे लोग अघोषित आय की बड़ी राशि कैश में जमा कराते हैं। इस राशि को वे कई खातों में ट्रांसफर करते हैं और फिर वहां से बेनिफिशरीज के खाते में रकम आती है। सर्वे के बारे में पूछे जाने पर एचडीएफसी बैंक के एक प्रवक्ता ने कहा, 'हमने कानून के मुताबिक FIU को कुछ ट्रांजैक्शन की जानकारी दी थी, जिनके संबंध में पिछले सप्ताह उन्होंने (ईडी) हमसे जानकारी मांगी थी। हम ईडी द्वारा मांगी जाने वाली जानकारी तैयार कर रहे हैं।'
100 करोड़ रुपये दूसरे खातों में ट्रांसफर
एक सूत्र ने बताया कि ईडी के अधिकारियों ने शुक्रवार को बैंक की ब्रांच पर सर्वे किए थे। इस दौरान उन्हें 100 करोड़ रुपये से अधिक की संदिग्ध रकम की जानकारी मिली। आठ से 25 नवंबर तक बैंक में 500 और 1000 रुपये के नोट में भारी रकम जमा हुई। अधिकारी इस बात की जांच कर रहे हैं कि इसमें बैंक मैनेजर शामिल है या नहीं क्योंकि इतनी बड़ी रकम पहले बैंक में जमा हुई बाद में वह बैंक से दूसरे खातों में ट्रांसफर कर दी गई। नोटबंदी के दो सप्ताह के अंदर 100 करोड़ रुपये दूसरे खातों में ट्रांसफर कर दिया गया।
जांच में 'एंट्री ऑपरेटरों' की भूमिका
ईडी ने तीन खातों में बेनिफिशरीज का पता लगा लिया है और अन्य का पता लगाने में जुटी है। इस मामले में पहला शक जूलरों और बुलियन ट्रेडरों पर है। अधिकारियों का मानना है कि मूल तौर पर इसका बेनिफिशरीज कोई दूसरा व्यक्ति हो सकता है। सूत्रों ने बताया कि इस मामले की शुरुआती जांच में 'एंट्री ऑपरेटरों की भूमिका नजर आ रही है। शक है कि वह काले धन को सफेद बना रहे थे।' बता दें कि इसी तरह का एक मामला कश्मीरी गेट स्थित एक्सिस बैंक में आया था, जिसके बाद ईडी ने दो बैंक कर्मचारियों और एक सीए को गिरफ्तार किया था। दूसरी ओर बेंगलुरु में सोमवार को ईडी ने 2000 रुपये के नोटों में 93 लाख रुपये बरामद किए और सात लोगों को गिरफ्तार किया था।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top