Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

डीयू के एक कार्यक्रम में बोले सुंदर पिचाई, नहीं मिला था मनमाफिक एडमिशन

गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई ने कहा कि वो क्रिकेटर बनना चाहते थे।

डीयू के एक कार्यक्रम में बोले सुंदर पिचाई, नहीं मिला था मनमाफिक एडमिशन
नई दिल्ली. दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) के श्रीराम कॉलेज ऑफ कॉमर्स (एसआरसीसी) में बृहस्पतिवार को गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई ने छात्रों से मुलाकात की। इस मुलाकात के के दौरान पिचाई ने छात्रों से खुलकर अपने दिल की बातें कही। एसआरसीसी के छात्रों ने भी पिचाई से जमकर सवाल पूछे। जहां उन्होंने अपनी स्टूडेंट लाइफ को याद किया।
बात दें कि एक छात्र का सवाल था कि 12वीं में आपको कितने नंबर मिले थे, पहले तो पिचाई इसका जवाब देने से बचने की कोशिश करते रहे, लेकिन बाद में वह बोले इतने नंबर नहीं थे कि जो एसआरसीसी में दाखिले के लिए जरूरी होते हैं। एसआरसीसी स्पोर्ट्स कॉम्पलैक्स में ‘आस्क सुंदर’ कार्यक्रम के दौरान पिचाई से सवाल करते हुए जहां छात्र उत्साहित थे, वहीं मशहूर क्रिकेट कमेंटेटर हर्षा भोगले के रैपिड फायर राउंड ने कार्यक्रम को रोचक बना दिया।
तो वही एक सवाल के जवाब में पिचाई ने कहा कि वे क्रिकेटर बनना चाहते थे लेकिन तकनीक के प्रति अत्यधिक लगाव के कारण इस प्रोफेशन की तरफ आ गए। और फिर सवालों को सिलसिला खत्म ना हुआ।
सवाल-आपने अपना पहला फोन कब खरीदा था?
पिचाई- 1995-96 में खरीदा जो मोटोरोला कंपनी का था और पहला स्मार्टफोन 2006 में खरीदा था।
सवाल- आप कितने स्मार्टफोन रखतें हैं?
पिचाई- घर पर 20-30 फोन हैं।
सवाल- कोडिंग क्या सबके लिए जरूरी?
पिचाई - नहीं सबके लिए जरूरी नहीं है, मगर इसे बढ़ावा देना चाहिए।
सवाल- अगले 30 साल में गूगल कहां होगा?
पिचाई- बड़ा सवाल है। अगले 30 सालों में हम उन समस्याओं पर काम करते रहेंगे, जो लोगों के जीवन और इंसानियत से जुड़ी हैं। ऐसे किसी प्रोडक्ट पर काम करना है, जो सब लोगों तक किसी न किसी दिन पहुंच कर उनकी जिंदगी को बदले।
सवाल- गूगल में काम करने का आपका अनुभव कैसा है?
पिचाई - गूगल में काम करने का लाजवाब अनुभव है। आपको अपने दिल की बात जरूर सुननी चाहिए। गूगल इज ग्रेट प्लेस टू वर्क आपको जो करना है करें।
सवाल- गूगल के लिए आगे क्या?
पिचाई - कई लोग कंप्यूटर साइंस पढ़ रहे हैं। उन्हें एक्सटेंशन देंगे। सेल्फ ड्राइविंग कार जैसी चीजें पहले ही आ गई हैं। हेल्थ केयर फील्ड में हम आगे काम कर रहे हैं। गूगल को हम लोगों के लिए और अधिक उपयोगी बनाने पर भी काम कर रहे हैं।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top