Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जमाखोरों से बरामद हुई 35,000 टन दाल, महंगाई से जल्द मिलेगी राहत- अरूण जेटली

10 राज्यों में 35,000 टन से अधिक दाल-दलहनों को जब्त किया गया है।

जमाखोरों से बरामद हुई 35,000 टन दाल, महंगाई से जल्द मिलेगी राहत- अरूण जेटली
नई दिल्ली. देश में दाल को लेकर पक्ष-विपक्ष में ठनी हुई है कि केंद्र सरकार महंगाई पर काबू नहीं कर पा रही है लेकिन बुधवार को केन्द्र सरकार खुलासा कर कहा कि राज्यों द्वारा दलहन की जमाखोरी और कालाबाजारी के खिलाफ अभियान तेज करने के बाद दो दिनों में 10 राज्यों से करीब 35,000 हजार टन दाल को जब्त किया गया।
तो वही उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय ने कहा कि दलहनों की जमाखोरी रोकने के लिए राज्यों की ओर से जमाखोरी रोधी अभियान तेज किया गया है। 10 राज्यों में 35,000 टन से अधिक दाल-दलहनों को जब्त किया गया है। इसमें कहा गया है कि जमाखोरी रोकने के लिए प्रदेश सरकारों को औचक जांच करने और छापेमारी करने के लिए कहा गया था। परिणामस्वरूप 10 राज्यों में 2,704 छापेमारी की घटना में 35,288 टन दलहनों को जब्त किया गया है।
बात दें कि एक बयान में कहा गया है कि सर्वाधिक मात्रा महाराष्ट्र में 23,340 टन की जब्त की गई जिसके बाद छत्तीसगढ़ में 4,525.19 टन, तेलंगाना में 2,546 टन, मध्य प्रदेश में 2,295 टन, हरियाणा में 1,168 टन, आंध्र प्रदेश में 859.8 टन, कर्नाटक में 479.6 टन, राजस्थान में 68.47 टन, तमिलनाडु में 4.32 टन और हिमाचल प्रदेश में 2.44 टन दलहन जब्त किये गये। केन्द्र सरकार ने हरियाणा प्रदेश सहकारिता संस्था हाफेड को बाजार से दलहन की खरीद करने और उसे प्रदेश में अपने बिक्री केन्द्रों के जरिये बेचने को भी कहा है। इसमें कहा गया है कि उत्तराखंड में मंडी समितियों ने 145 रुपये किलो की दर से तुअर दाल बेचने के लिए देहरादून, हरिद्वार और उधमसिंह नगर में खुदरा बिक्री केन्द्र खोले हैं।
इस छापेमारी के बाद प्रदेश सरकार को भी निर्देश दिया गया है कि है कि वह राशन की दुकानों के जरिये निर्धारित दरों पर दालों की बिक्री करें। दिल्ली में तुअर दाल सफल और केन्द्रीय भंडार के बिक्री केन्द्रों के जरिये 120 रुपये किलो के हिसाब से बेचा जा रहा है जबकि तमिलनाडु में सरकार उड़द दाल 30 रुपये प्रति किलो के हिसाब से बेच रही है।
तो वही दूसरी तरफ आंध्र प्रदेश और तेलंगाना सरकार उपभोक्ताओं को राहत देने के लिए एक किलो लाल चना 50 रुपये प्रति किलो के हिसाब से वितरित कर रही है। कुछ राज्यों में जमाखोरों के खिलाफ कार्रवाई किये जाने के बाद तुअर कीमत मामूली गिरावट के साथ 205 रुपये किलो रह गई जो कल खुदरा बाजारों में 210 रुपये किलो के भाव थी। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि जमाखोरी के खिलाफ तीन-चार दिनों से चल रही छापेमारी के दौरान 36 हजार टन दाल जब्त की गई है। आयातित दाल के साथ उसके बाजार में आने पर अगले कुछ दिनों में कीमतें कम होने लगेगी।
नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, खबर से जुड़ी अन्य जानकारियां -
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top