Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सफदरजंग अस्पताल की लपरवाही पड़ी मासूम पर भारी, डेंगू मुक्त बताकर भेजा घर-मौत

सभी बड़े अस्पतालों में डेंगू के मरीज पहले से ही बहुत अधिक हैं।

सफदरजंग अस्पताल की लपरवाही पड़ी मासूम पर भारी, डेंगू मुक्त बताकर भेजा घर-मौत
नई दिल्ली. लाडोसराय के बाद दिल्ली में एक मासूम ने डेंगू के कारण दम तोड़ दिया है। इस बार श्रीनिवासपुरी में भी अस्पतालों की लापरवाही सामने आई है। छह साल के अमन नामक बच्चे को बुखार की शिकायत होने पर गोदरेज अस्पताल में भर्ती कराया गया। डॉक्टरों ने जब बच्चे का ब्लड टेस्ट किया तो पता चला उसे डेंगू था।
इसके बाद उसे इलाज के लिए सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया। सफदरजंग अस्पताल में उसे डेंगू होने से मना कर दिया गया। लेकिन जब बच्चे की तबीयत और ज्यादा बिगड़ने लगी तो उसे जीवन अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां वो तीन दिन तक भर्ती रहा, लेकिन जब उसकी जान न बचा पाने में अस्पताल ने अपनी असमर्थता जताई तो उसे मूलचंद, बत्रा और मैक्स अस्पताल में भर्ती करवाने की कोशिश की लेकिन उसे कहीं भर्ती नहीं किया गया।
इन सभी अस्पतालों में बेड की कमी को बच्चे को भर्ती न करने की मजबूरी बताई गई। जानकारी के मुताबिक इन सभी बड़े अस्पतालों में डेंगू के मरीज पहले से ही बहुत अधिक हैं, जिसके इस मासूम को भर्ती नहीं किया गया। किसी तरह बच्चे के मां-बाप उसे होली फैमली अस्पताल में भर्ती करवाने में कामयाब रहे लेकिन 12 घंटे बाद ही बच्चे ने दम तोड़ दिया।
बच्चे के पिता मनोज शर्मा ने इस सबके लिए सफदरजंग अस्पताल को दोषी ठहराया है। जहां उसे डेंगू मुक्त बताया गया था। यदि समय रहते उसको सही ट्रीटमेंट मिल जाता तो शायद उसका बच्चा बच सकता था। उस वक्त हमारे बच्चे की हालत भी कुछ स्थिर थी इसलिए उसे हम घर वापस ले आए थे लेकिन हमें क्या पता था कि एक दिन हमारे साथ ऐसा हो जाएगा।
नीचे की स्लाइड्स में पढें, खबर से जुड़ी अन्य जानकारी -
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर -
Next Story
Top