Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

BYE BYE 2015: 12 महीने में इन 12 बड़ी वारदातों से सहमी दिल्ली

दिल्ली सरकार और दिल्ली पुलिस के बीच पिछले वर्ष से ज्यादा तनातनी सड़कों पर दिखाई दी।

BYE BYE 2015: 12 महीने में इन 12 बड़ी वारदातों से सहमी दिल्ली
नई दिल्ली. साल 2015 किसी के लिये काफी अच्छा रहा तो किसी के लिये बहुत बुरा रहा। दिल्ली की राजनीति में ऐसा कुछ खास नहीं हुआ जिसको देखकर कह सके कि ये काम नया हुआ था। लेकिन दिल्ली सरकार के जिस तरह से मंत्री पकड़े गए। उसको देखकर सरकार पर जरूर सवाल खड़े हुए। दिल्ली सरकार और दिल्ली पुलिस के बीच पिछले वर्ष से ज्यादा तनातनी सड़कों पर दिखाई दी। दिल्ली सरकार और एंटी क्रप्शन विभाग भी आमने सामने रहा। वहीं पिछले वर्षो की तरह इस वर्ष भी अपराध का ग्राफ बढ़ा दिखाई दिया। साल में कई ऐसी बड़ी घटनाएं सामने आई,जिससे सब सन रह गए। वर्ष के शुरू होने के डेढ घंटे बाद ही मित्राऊं गांव में मातम पसर गया था।
एक जनवरी 2015:
-मित्राऊं गांव और समयपुर गांव के संदीप,मनीष और सुधीर समेत चार युवकों की लाशें दो कारों में हरियाणा के झज्जर इलाके में मिली।
29 मार्च 2015:
-आईएनएलडी पूर्व विधायक भरत सिंह की हत्या ने नजफगढ़ के मित्राऊं गांव को दहशत में लाकर खड़ा कर दिया था। भरत सिंह की हत्या के बाद गांव में गैंगवार का आसार और ज्यादा बढ़ गया था। भरत सिंह के बड़े भाई किश्न पहलवान और उदयवीर उर्फ काले के बीच एक बार फिर से गैंगवार सामने आई। पुलिस ने भारत सिंह की हत्या में आधा दर्जन बदमाश पकड़े। जिसमें अभी कुछ फरार है।
एक अप्रैल 2015:
-कालिंदी कुंज से कार सवार बदमाशों ने सेमसंग कंपनी का 27 करोड़ रुपये से भरा कंटेनर लूटा था। चालक और हेल्पर को दिल्ली से बाहर ले जाकर फेंक गया था। सरिता विहार पुलिस ने मामले में पांच आरोपियों को दबोचकर सबसे बड़ी बरामदगी की थी।
24 अप्रैल 2015:
- जंतर मंतर पर किसानों की आवाज उठाने आए दौसा गांव नांगल के गजेन्द्र चौहान की संदिग्ध हालत में खुदकुशी मामले ने आप सरकार पर सवाल खड़े कर दिल्ली की पॉलिटिक्स को हवा दी थी।
25 अगस्त 2015:
-दिल्ली पुलिस की टॉप टेन में शामिल नीरज बवानिया ने रोहिणी कोर्ट से निकलने के बाद पीत्तमपुरा में चलती पुलिस वैन में गैंगस्टर पारस और प्रदीप की पीट-पीटकर हत्या कर दी थी। पारस और प्रदीप से नीरज की काफी समय से दुश्मनी थी। वारदात के बाद पुलिस वैन में कैदियों की सुरक्षा पर भी सवाल खड़े हुए थे।
21 सितंबर 2015:
- रधुवीर नगर इलाके में शबनम नामक महिला और उसकी बेटी खुशी और बेटे इमरान की घर में घुसकर निर्मम हत्या करने का मामला सामने आया था। वारदात के बाद परिजनों ने प्रदर्शन कर पुलिस की गाडियों को क्षतिग्रस्त कर कई पुलिस वालों को घायल कर दिया था। पुलिस ने इस मामले में एक आरोपी को गिरफ्तार किया था। पुलिस पर गिरफ्तारी पर ही सवाल खड़े हुए थे।
25 सितंबर 2015:
- सराय रोहिल्ला की सराय बस्ती में बुजुर्ग दंपत्ति चंदूमल,गुल्ला देवी और उनके बेटे राकेश की गला रेतकर हत्या हुई थी। इस मामले में पुलिस ने एक आरोपी को बिहार से गिरफ्तार किया था। वारदात को उन्हीं के एक जानकार ने अंजाम दिया था।
अक्टूबर 2015:
-अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन को इंडोनेशिया पुलिस ने अपने बाली शहर से गिरफ्तार किया। जिसको सीबीआई दिल्ली लेकर आई। राजन की गिरफ्तारी ने अंडरवर्ल्ड में हलचले तेज हो गई हैं। जिसमें बताया गया कि कई डॉन अपने ठिकानों को खबर आने के बाद बदल चुके थे। राजन पर भारत में 72 मामले दर्ज हैं।
26 नवंबर 2015:
-ओखला औद्योगिक क्षेत्र में प्रदीप नामक बैंक कैश वैन का चालक वैन लेकर फरार हो गया। वैन में साढ़े 22 करोड़ रुपये थे। आरोपी को कुछ ही घंटे बाद पुलिस ने दबोच लिया था। 26 नवंबर 2015:-दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने पाकिस्तान की आईएसआई के जासूस कफायतुल्लाह खान को नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से गिरफ्तार किया। उसकी निशानदेही पर बीएसएफ और सेना के दो जवान समेत चार जासूसों को गिरफ्तार कर राजौरी जम्मू का नेटवर्क को तोड़ने में सफलता हांसिल हुई।
28 नवंबर 2015:
-उत्तरी जिला की डीआईयू पुलिस टीम ने 32 करोड़ रुपये से ज्यादा की धोखाधड़ी में श्याम कुमार मित्तल को अरेस्ट किया। जिसने पचास से ज्यादा चना कारोबारियों को से पैसा लिया था।
एक दिसंबर 2015:
-पाकिस्तान स्थित लश्कर ए तौयबा के दो आतंकी दुजाना और युकासा को अरेस्ट किया। दोनों वीवीआईपी को निशाना बनाते और भीड़ भाड़ वाली जगहों पर बम विस्फोट करते। इनकी योजना में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की हत्या करना था। उनके दूसरे नेटवर्क को आईएनए ने मुम्बई से एक साथी को गिरफ्तार किया है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top