Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जाम से दिल्ली बेहाल, प्रतिबंध के खिलाफ सड़कों पर उतरे डीजल टैक्सी चालक

दिन भर यातायात हेल्पलाइन पर जाम की शिकायतों से संबंधित फोन आते रहे।

जाम से दिल्ली बेहाल, प्रतिबंध के खिलाफ सड़कों पर उतरे डीजल टैक्सी चालक
नई दिल्ली. दिल्ली एनसीआर में डीजल टैक्सियों पर बैन के खिलाफ सोमवार को हजारों ऑपरेटर्स और टैक्सी चालकों ने राजधानी के कई इलाकों में धरना -प्रदर्शन कर गुस्सा जाहिर किया।
सोमवार सुबह से ही रजोकरी, आश्रम, जंतर- मंतर और पंत मार्ग पर शुरू हुए प्रदर्शन के कारण देर शाम तक राजधानी का बड़ा हिस्सा जाम से जूझता रहा। सबसे अधिक असर राष्ट्रीय राजमार्ग-8 पर देखने को मिला। इसकी वजह से दक्षिण दिल्ली के ज्यादातर इलाके भी जाम की चपेट में रहे। रजोकरी इलाके में जाम खुलवाने के लिए तो सीआरपीएफ की टीम को मौके पर भेजना पड़ा।
नोएडा सेक्टर-20 पुलिस द्वारा डीएनडी जाम करने वाले 15 टैक्सी चालकों के खिलाफ आईपीसी की धारा 341 के तहत केस दर्ज कर आठ टैक्सियां भी जब्त करनी पड़ी। यातायात पुलिस अधिकारियों के अनुसार, प्रदर्शनकारियों के एक समूह ने सुबह एनएच-8 पर रजोकरी टोल बूथ के पास प्रदर्शन शुरू किया।
इसकी वजह से दक्षिण दिल्ली की कई सड़कों पर लंबा जाम लग गया। सुबह साढ़े 11 बजे के आसपास स्थिति उस समय और खराब हो गई, जब आर्शम चौक के पास महरानी बाग जाने वाले दोनों मागरें पर प्रदर्शनकारियों ने वाहनों की आवाजाही रोक दी। इसकी वजह से आसपास के इलाके समेत धौलां कुआं में भी यातायात बाधित रहा और कई घंटों तक अव्यवस्था की स्थिति बनी रही। दिल्ली और गुड़गांव को जोड़ने वाले एनएच-8 पर जाम सबसे ज्यादा रहा।
दिन भर यातायात हेल्पलाइन पर जाम की शिकायतों से संबंधित फोन आते रहे। गौरतलब है कि प्रदर्शनकारियों में वे डीजल टैक्सी चालक भी शामिल थे, जिनके पास अखिल भारतीय पर्यटक परमिट है। हालांकि इन्हें राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र से बाहर परिचालन करने की स्थिति में प्रतिबंध से छूट है। दिल्ली परिवहन विभाग के मुताबिक, राष्ट्रीय राजधानी में करीब 60,000 टैक्सी पंजीकृत हैं।
आगे की स्लाइड्स में पढ़िए, खबर से जुड़ी अन्य जानकारियां-
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलोकरें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top