Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

प्रदूषण पर दिल्ली सरकार सख्त, केजरीवाल ने मांगा डीपीसीसी से जल्द जवाब

प्रदूषण को लेकर नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने केंद्र और दिल्‍ली सरकार दोनों को लताड़ लगाई है।

प्रदूषण पर दिल्ली सरकार सख्त, केजरीवाल ने मांगा डीपीसीसी से जल्द जवाब
नई दिल्ली. दिवाली के बाद से दिल्ली और एनसीआर में खतरनाक स्तर पर पहुंच चुके वायु प्रदूषण को लेकर नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने केंद्र और दिल्‍ली सरकार को लताड़ लगाई है। तो उसके तुरंत बाद दिल्ली सरकार भी हरकत में नजर आई और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने डीपीसीसी के चेयरमैन से एक सप्ताह के अंदर जवाब मांगा है।
नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने शुक्रवार को दिल्ली में प्रदूषण से बिगड़े हालात पर केंद्र और केजरीवाल सरकार को फटकार लगाई और कहा कि दोनों ही सरकारें कदम नहीं उठा रहीं. दिल्ली सरकार ने बताया कि प्रदूषण को लेकर उसने गुरुवार को दो मीटिंग की. एनजीटी ने कहा कि आप 20 मीटिंग कर लीजि‍ए, लेकिन उससे क्या फर्क पड़ेगा. आप कोई एक काम बताइए जो आपने प्रदूषण को कम करने के लिए किया हो? बता दें कि सरकार ने प्रदूषण के लिए क्रॉप बर्निंग को ठहराया जिम्मेदार है।
सुनवाई में दिल्ली सरकार ने एनजीटी से कहा कि दिल्ली में प्रदूषण के बढ़ने की मुख्य वजह क्रॉप बर्निंग है। इस पर एनजीटी ने नाराजगी जताते हुए कहा कि क्रॉप बर्निंग के अलावा भी दिल्ली में प्रदूषण बढ़ने की कई और वजह है। क्या आपने उस पर कोई काम किया? एनजीटी ने कहा कि आप अभी तक 10 साल पुरानी ड़ीजल गाडियों को ही दिल्ली की सड़कों से नहीं हटा पाए हैं। हम अपने बच्चों और नौनिहालो को क्या दे रहे हैं? प्रदूषण जो उनके लिए जानलेवा है। हमें सोचना होगा। एनजीटी ने कहा कि हमने खुद देखा है कि साउथ दिल्ली के कई इलाकों मे बिल्डर्स कंस्ट्रक्शन के दौरान नियमों की धज्जिया उड़ा रहे हैं। उन्हें रोकने वाला कोई नहीं है। कंस्ट्रक्शन के दौरान धूल प्रदूषण बढ़ाने का बड़ा कारण है। डस्ट, प्लास्टिक बर्निंग और कूड़े को जलाने को लेकर अभी तक एजेंसी क्या कर रही हैं?
एनजीटी द्वारा वायु में बढ़ते प्रदूषण के स्तर के लिए दिल्ली, हरियाणा, पंजाब और राजस्थान के सचिवों को भी तलब किया है। आपको बाते दें दिल्ली में वायु प्रदूषण ज़्यादा है। दिल्ली में सांस लेने वाले के अंदर प्रतिदिन 40 सिगरेटों का धुआं जा रहा है। एनजीटी ने दिल्ली सरकार को राजधानी की सड़कों पर 10 साल पुरानी डीजल वाहनों को बंद करने को कहा है। गौरतलब है कि पंजाब-हरियाणा में जलाई जा रही पराली के कारण राजधानी दिल्ली में लोगों का सांस लेना दूभर हो गया है। दिवाली के बाद अबतक राजधानी की हवा बेहद प्रदूषित हो गई है। दिल्ली सरकार ने एनजीटी को बताया कि वायु प्रदूषण हरियाणा, पंजाब, राजस्थान में फसल जलाये जाने का कारण हुआ है।
Next Story
Top