Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

दिल्ली में नकली सिक्के बनाने वाली कंपनी का पर्दाफाश

पुलिस को फैक्ट्री में सिक्के बनाने वाली मशीन व काफी सिक्के बनाने का सामान मिला है

दिल्ली में नकली सिक्के बनाने वाली कंपनी का पर्दाफाश
नई दिल्ली. दिल्ली पुलिस को रविवार को चेकिंग के दौरान बड़ी सफलता हाथ लगी है। पुलिस ने बवाना इंडस्ट्रियल एरिया में एक नकली सिक्के बनाने वाली टकसाल पकड़ी गई है। पुलिस के एंटी ऑटो थेफ्ट स्क्वॉड (एएटीएस) स्टाफ को चेकिंग के दौरान एक स्विफ्ट डिजायर कार से 40 हजार के जाली सिक्के मिलने के बाद इस टकसाल का पता चला।
डीसीपी एमएन तिवारी के मुताबिक, दिल्ली में चल रहे हाई अलर्ट की वजह से इन्स्पेक्टर समरपाल सिंह की अगुवाई में एएटीएस टीम शनिवार को रोहिणी सेक्टर-11 और 17 को डिवाइड करने वाली रोड पर गाड़ियों की तलाशी ले रही थी। इस बीच शाहबाद डेयरी की ओर से आ रही स्विफ्ट डिजायर कार को चेकिंग के लिए रोका गया। कार की तलाशी के दौरान गाड़ी के बूट स्पेस में दो प्लास्टिक बैग मिले। जिसमें 20 पैकेट में करीब सौ-सौ सिक्के रखे थे। यह सारे सिक्के पांच और दस रुपये के थे। इन नकली सिक्कों की कीमत करीब 40 हजार रुपये आंकी गई है। कार सवार की पहचान रोहिणी सेक्टर-11 निवासी नरेश कुमार के तौर पर हुई है।
नरेश ने पुलिस को यह कहकर झांसा देने की कोशिश की कि वह पंजाब नैशनल बैंक का अधिकारी है। लेकिन टीम ने जब आरोपी से पहचान पत्र दिखाने को कहा तो वह सकपका गया। सीनियर अधिकारियों के संज्ञान में इस घटना की जानकारी देकर, एएटीएस टीम ने आरोपी को हिरासत में ले लिया। पूछताछ में नरेश ने एएटीएस टीम को बताया कि बवाना इंडस्ट्रियल एरिया में सिक्के बनाने की अवैध फैक्ट्री चल रही है। नरेश ने फैक्ट्री चलाने वालों के नाम सोनू और राजू बताए हैं। राजेश कुमार नाम का व्यक्ति इस फैक्ट्री का मैनेजर है।
इस खुलासे के बाद पुलिस ने उस फैक्ट्री पर भी छापा मारा। लेकिन तब तक वहां से तीनों आरोपी फरार हो चुके थे। पुलिस को फैक्ट्री में सिक्के बनाने वाली मशीन व काफी सिक्के बनाने का सामान मिला है। पुलिस फैक्ट्री को सील कर फरार आरोपियों की तलाश में जुट गई है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top