Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

निजामुद्दीन स्टेशन से पकड़े गए 27 लाख, सभी नोट 2000 के

हैरानी की बात है कि सभी नोट दो हज़ार के हैं जो मुंबई से बदलकर दिल्ली लाए गए थे।

निजामुद्दीन स्टेशन से पकड़े गए 27 लाख, सभी नोट 2000 के
नई दिल्ली. पीएम मोदी द्वारा नोटबैन की घोषणा के बाद से ही जहां देशभर में 500 और 1000 रुपए के पुराने नोट पकड़े जाने की खबरें सामने आ रही थीं, वहीं अब नए नोटों की खेप भी पकड़ में आने शुरू हो गए हैं। दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने हज़रत निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन के बाहर से एक फॉर्च्यूनर कार से 27 लाख रुपए बरामद किए हैं और साथ ही दो लोगों को गिरफ्तार भी किया है। हैरानी की बात है कि सभी नोट दो हज़ार के हैं जो मुंबई से बदलकर दिल्ली लाए गए थे। दिल्ली क्राइम ब्रांच अब इस बात की छानबीन कर रही है कि आखिर इन लोगों के पास इतने पैसे आए कहां से और वो लोग इन पैसों को कहां ले जा रहे थे।
दरअसल, इंटरस्टेट सेल के एसीपी संजय सेहरावत और एसआई संदीप यादव को इस बारे में सूचना मिली थी कि दो लोग निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन पर आने वाले हैं। जिसके बाद इन दोनों को पकड़ लिया गया। अपराध शाखा के ज्वाइंट सीपी रविंद्र यादव ने बताया कि दोनों व्यक्तियों की पहचान अजीत पाल सिंह और राजेंद्र पाल सिंह के तौर पर हुई है। ये दोनों दिल्ली के पीतमपुरा के रहने वाले हैं और मुम्बई से पैसा बदलकर दिल्ली ला रहे थे।
पुलिस का कहना है कि खुफिया जानकारी मिलने के बाद दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने इस ऑपरेशन को अंजाम दिया। दोनो शख्स 35 लाख रुपए लेकर मुंबई गए थे, इसके बाद वह इन्हें 27 लाख रुपए में बदलकर ला रहे थे। इस दौरान निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन पर पुलिस ने दोनों को पकड़ा है। पुलिस ने इस बावत आयकर विभाग को सूचित कर दिया है। बताया जा रहा है कि ये सारे रुपए दिल्ली के रहने वाले एक बड़े उद्योगपति के हैं जो अभी फ़रार बताए जा रहे हैं।
पुलिस का कहना है कि अजीत पाल सिंह और राजेंद्र सिंह ट्रेन से जब दिल्ली पहुंचे तो उन्हें लेने के लिए ये सफेद रंग की फॉर्च्यूनर कार वहां पहुंची थी। स्टेशन से निकलने के बाद दोनों आरोपियों ने जैसे ही पैसा गाड़ी में रखा, क्राइम ब्रांच ने उन्हें दबोच लिया। पुलिस का कहना है कि HR 12AB 0002 नंबर की ये कार संजय मलिक नाम के शख्स की है। जो पैसा बरामद किया गया है वो भी संजय मलिक का ही है।
यह भी शक जताया जा रहा है कि यह वो पैसा है, जिसे कालेधन से सफेद किया गया है। हालांकि, वास्तव में यह पैसा कहां से आया है और किस तरीके से आया है इस बात की पुष्टि पूछताछ और जांच पूरी होने के बाद ही हो सकेगी।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top