Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

दिल्ली मेट्रो में सफर करते समय जेब व महिलाओं पर रखें नजर

डेटा में बताया गया कि इस साल अभी तक जेब काटने के मामले, पिछले साल के मुकाबले 3 गुना ज्यादा हैं।

दिल्ली मेट्रो में सफर करते समय जेब व महिलाओं पर रखें नजर

मेट्रो में सफर करते वक्त अपने सामान को लेकर कुछ ज्यादा सतर्कता बरतें। दिल्ली मेट्रो की सुरक्षा में लगे सिटी इंटेलीजेंस स्पेशल फोर्स ने जो डेटा रिलीज किया है उसमें कई चौंकाने वाले तथ्य हैं।

डेटा में बताया गया कि इस साल अभी तक जेब काटने के मामले, पिछले साल के मुकाबले 3 गुना ज्यादा हैं। जनवरी से मई तक के डेटा को देखें तो पॉकेट मारी में 77 फीसदी महिलाएं पकड़ी गई हैं।

सीआईएसएफ ने इस पर रोक लगाने के लिए पिछले महीने एक अभियान शुरू किया है। सीआईएसएफ के डेटा के अनुसार, पकड़े गए 521 पॉकेटमारों में से 401 महिलाएं (77 प्रतिशत) थीं। 148 पॉकेटमारों को यात्रियों की मदद से पकड़ा गया।

चोरी पर रोक लगाने के लिए बनी टीम में एक सब-ऑफिसर और एक कॉन्सटेबल होगा जो संदिग्धों पर हर तरह से नजर रखेगा। इनकी मदद के लिए ग्राउंड पर स्टाफ तैयार रहेगा। टीम सादे कपड़ों में होगी जिससे वह लोगों के बीच में रहकर संदिग्धों को धर पाएं।

गोद में ली रहतीं हैं बच्चा

अफसरों ने बताया कि महिला पॉकेट मार गैंग में काम करते हैं और अधिकतर वह अपने साथ बच्चों को लेकर चलते हैं।

जिससे ध्यान बांटा जा सके। एक अफसर ने बताया, 'लोग बच्चे के साथ सफर कर रही महिला पर शक नहीं करते और इसी का फायदा वे उठाती हैं।' आम नागरिक भी महिला समझकर उन्हें जगह दे देता है जिसके चलते वे जेब में हाथ साफ कर देतीं हैं।

तीन दिन में पकड़ाईं 52 जेबकतरी

एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, 'स्पेशल टीम हर लाइन पर चोरी रोकने के लिए अभियान चलाती रहेगी। सबसे ज्यादा पॉकेट मारी की घटनाएं चांदनी चौक, शाहदरा, हुडा सिटी सेंटर, कीर्ति नगर, नई दिल्ली और तुगलकाबाद में होती हैं।'

इसी महीने में सिफ तीन दिन में ही सीआईएसएफ ने 52 महिलाओं को पकड़ा है। इनसे गोल्ड जूलरी और कैश बरामद किया गया है। आरोपियों को दिल्ली पुलिस के हवाले कर दिया गया है। एक अफसर ने कहा कि जेब कटने की घटना की शिकायत और रिपोर्ट जरूर करें।

Next Story
Top