Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

दिल्ली सरकार का बड़ा बदलाव: डीएल जैसी 200 सेवाओं के लिए एफिडेविट की जरूरत नहीं

गलत जानकारी देने पर होगी कार्रवाई।

दिल्ली सरकार का बड़ा बदलाव: डीएल जैसी 200 सेवाओं के लिए एफिडेविट की जरूरत नहीं
नई दिल्ली. आय प्रमाण पत्र बनाना हो या वृद्धावस्था पेंशन लेना हो, अब इनके लिए दिल्ली में एफिडेफिट देने की जरूरत नहीं होगी। साथ ही कागजात को राजपत्रित अधिकारी से भी सत्यापित कराने की आवश्कता नहीं होगी। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की अध्यक्षता में मंगलवार को हुई कैबिनेट की बैठक में दिल्ली सरकार ने 200 प्रकार के कार्यों के लिए हलफनामे की शर्त को खत्म कर दिया है। इस संबंध में उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने बताया कि दिल्ली सरकार ने सभी विभागों से हलफनामे के संबंध में जानकारी मांगी गई थी।
मिली जानकारी के आधार पर पता चला कि करीब 200 प्रकार के सेवाओं के लिए जा रहे हलफनामे की जरूरत नहीं है, इन्हें खत्म किया जा सकता है। मंगलवार को कैबिनेट ने इस पर मोहर भी लगा दी। एक दिसंबर के बाद से इन 200 सुविधाओं का लाभ पाने के लिए कोई हलफनामा देने की जरूरत नहीं होगी, स्वयं-घोषणा देकर भी आवेदन कर सकता है। उन्होंने बताया कि अभी करीब 40 प्रकार की सुविधाओं के लिए हलफनामे की शर्त को रखा गया है। इसमें से करीब 20 प्रकार के सेवाएं केंद्र से व 10-15 प्रकार की दिल्ली सरकार से जबकि अन्य विभाग से संबंधित हैं। उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार आवेदन प्रक्रिया को ऑनलाइन करने की दिशा में काम कर रही है। यह पूरा होते ही काफी समस्याएं दूर हो जाएगी। आवेदक आसानी से सुविधाओं का लाभ उठा सकेंगे।
इन सेवाओं में होगा लाभ-
राशन कार्ड बनाने, राशन कार्ड में संशोधन, कार्ड के स्थानांतरण, नाम बदलने, डुप्लीकेट राशन कार्ड जारी करने, पते में परिवर्तन कराने, गाड़ी का पंजीकरण कराने, गाड़ी परमिट लेने, परमिट के हस्तांतरण, स्वामित्व, शिक्षार्थी लाइसेंस, स्थायी लाइसेंस जारी करना, संकट में महिलाओं के लिए पेंशन, बेटियों व अनाथ लड़कियों के लिए आर्थिक सुविधा लेने, लाडली योजना, लड़की के विवाह के लिए गरीब विधवाओं को वित्तीय सहायता, वृद्धावस्था पेंशन, विकलांगता पेंशन, जन्म और मृत्यु, आय प्रमाण पत्र, अन्य पिछड़ा वर्ग, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति प्रमाण पत्र, विकलांग व्यक्ति प्रमाण पत्र, पेंशन और जीपीएफ, सीटी स्कैन की सुविधा, एमसीडी के तहत इमारतों सहित 200 प्रकार की सुविधा के लिए अब इसकी जरुरत नहीं होगी।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top