Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

दिल्ली में पक्ष-विपक्ष की सियासत गरमाई

करण सिंह तंवर को एमएम खान मामले में मिली क्लीनचिट

दिल्ली में पक्ष-विपक्ष की सियासत गरमाई
नई दिल्ली. एनडीएमसी के लॉ ऑफिसर एमएम खान की हत्या के मामले में दिल्ली पुलिस ने एनडीएमसी के उपाध्यक्ष करण सिंह तंवर को क्लीनचिट दे दी है। जिसके बाद दिल्ली में पक्ष-विपक्ष की सियासत तेज हो गई है।
एक महीने पहले हुए एमएम खान हत्याकांड के मामले में क्लीनचिट मिलने के बाद एनडीएमसी उपाध्यक्ष ने दिल्ली सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि दिल्ली सरकार ओछी राजनीति कर रही है। उन्होंने पुलिस द्वारा मिली क्लीनचिट को आप पार्टी के मुंह पर करारा तमाचा बताया।
उन्होंने कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल, पार्टी के संयोजक दिलीप पाण्डे, विधायक अमानुतुल्ला व सुरेन्द्र सिंह ने एक महीने तक राजनीति के जरिए फंसाने की कोशिशों में लगे हैं, इसलिए ही उनके खिलाफ मुकदमा भी दायर कराएंगे।
उन्होंने दिल्ली पुलिस की तारीफ करते हुए कहा कि दिल्ली पुलिस ने 24 घंटों के अंदर ही असली हत्यारों और संदिग्धों को पकड़कर न केवल अपनी ड्यूटी को बखूबी निभाया बल्कि इस हत्याकांड की जांच के जरिए आप पार्टी की मंसूबों को बेनकाब किया।
सांसद व पूर्व विधायक पर लगाए गए आरोप निराधार : भाजपा
दिल्ली भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश उपाध्याय ने कहा है कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल अपना विवके खो चुके हैं। सांसद महेश गिरी और पूर्व विधायक करण सिंह तंवर पर लगाए जा रहे आरोप निराधार हैं। उपाध्याय ने कहा कि नई दिल्ली नगर पालिका परिषद के अधिकारी एमएम खान की हत्या से भाजपा भी दुखी है, लेकिन यह समझ में नहीं आ रहा कि समय बढ़ाने या किसी अन्य तकनीकी सुविधा के लिए पत्र को किस प्रकार हत्या की साजिश से जोड़ा जा सकता है।
उपाध्याय ने कहा कि पार्टी केजरीवाल से यह पूछना चाहती है कि यदि एक पत्र लिखने से भाजपा नेता हत्या के लिए जिम्मेदार हो जाते हैं तो क्या हम यह समझें कि मुख्यमंत्री केजरीवाल, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और आम आदमी पार्टी का सम्पूर्ण नेतृत्व जो किसान गजेन्द्र सिंह की आत्महत्या के समय मंच पर बैठा था, उसकी मृत्यु के लिए जिम्मेदार है।
सीएम से मांगा इस्तीफा
तंवर ने केजरीवाल के इस्तीफे की मांग करते हुए कहा कि केजरीवाल के झूठे बयानों से मुख्यमंत्री पद की गरिमा खंडित हुई है, नैतिकता के आधार पर उन्हें इस पद पर नहीं रहना चाहिए। एनडीएमसी उपाध्यक्ष ने आप पार्टी के नेताओं मानसिक इलाज की नसीहत देते हुए कहा कि इस हत्याकांड में नेताओं ने अभद्र और असंवैधानिक भाषा का इस्तेमाल किया है जो आम इंसान प्रयोग नहीं कर सकता।
एनडीएमसी के लॉ ऑफिसर एमएम खान की हत्या के मामले में दिल्ली पुलिस ने एनडीएमसी के उपाध्यक्ष करण सिंह तंवर को क्लीनचिट दे दी है। जिसके बाद दिल्ली में पक्ष-विपक्ष की सियासत तेज हो गई है।
गिरी ने लिखा सीएम को पत्र
पूर्वी दिल्ली से भाजपा सांसद महेश गिरी ने नई दिल्ली नगर पालिका परिषद (एनडीएमसी) के कानूनी सलाहकार एमएम खान की हत्या के मामले में अपने उपर लगे सभी आरोपों को बेबुनियाद बताया है। साथ ही महेश गिरी ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को आगामी 19 जून को शाम चार बजे कांस्टिट्यिूशन क्लब में बहस करने के लिए पत्र के माध्यम से खुली चुनौती भी दे डाली है।
अब देखना बड़ा ही दिलचस्प होगा कि सीएम केजरीवाल बहस में शामिल होते हैं या नहीं। पत्र में सांसद गिरी ने लिखा है कि यदि एम एम खान की हत्या में उनकी संलिप्ता पाई जाती है तो वह राजनीतिक जीवन से सन्यास ले लेंगे।
वहीं, यदि आरोप तय नहीं होते हैं तो क्या सीएम केजरीवाल राजनीतिक जीवन से सन्यास ले लेंगे? हालांकि, दिल्ली पुलिस की ओर से उन्हें क्लीनचिट दी जा चुकी है। इस पत्र में सीएम केजरीवाल द्वारा दिल्ली के उपराज्यपाल नजीब जंग के लिखे गए पत्र का भी जिक्र किया गया है। पत्र में लिखा गया है कि जिस असंसदीय भाषा का इस्तेमाल सीएम होने के बावजूद केजरीवाल ने किया है। उससे मुख्यमंत्री पद की गरिमा नीचे पहुंची है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलोकरें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top