Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

ठंड से ठिठुरी दिल्ली, खतरनाक स्तर पर पहुंचा प्रदूषण

ठंड के साथ ही दिल्ली में प्रदूषण भी बढ़ गया है।

ठंड से ठिठुरी दिल्ली, खतरनाक स्तर पर पहुंचा प्रदूषण
नई दिल्ली. राजधानी में तापमान गिरते ही प्रदूषण का स्तर खतरनाक स्तर पर पहुंच गया है। दिल्ली समेत पूरे उत्तर भारत में इस समय कोहरे का कहर छाया हुआ है। कई जगहों पर भारी बर्फबारी हुई है, वहीं कुछ क्षेत्रों में बारिश भी हुई है। कोहरे की मार से दिल्ली ठंड से ठिठुरने लगी है। ठंड के साथ ही दिल्ली में प्रदूषण भी बढ़ गया है। ऐसा वातावरण में नमी बढ़ने, सड़कों से उड़ने वाली धूल, वाहनों से निकलने वाले धुएं के कारण हुआ है। धीरपुर में सूक्ष्म कण की मात्रा सामान्य से 7 गुना ज्यादा तक बढ़ गई।
दिल्ली का अधिकतम तापमान शनिवार को 24.5 डिग्री सेल्सियस की तुलना में सीधे 10 डिग्री तक लुढ़ककर रविवार को 15.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। न्यूनतम तापमान शनिवार को 8 डिग्री सेल्सियस था, जो 11.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। न्यूनतम तापमान में सामान्य की तुलना में 3 डिग्री सेल्सियस की वृद्धि दर्ज की गई। जिसकी वजह यह रही कि सुबह सूरज करीब आठ बजे चढ़ता हुआ नजर आया। लेकिन करीब नौ बजे तापमान 14 डिग्री के आसपास पहुंच गया। जिससे एकदम मौसम में आर्द्रता बढ़ गई। यह आर्द्रता भूमिगत नमी से भाप के रूप में बाहर आई, जिससे कोहरा घना हो गया। देहरादून में अधिकतम तापमान 18 और न्यूनतम तापमान 8 डिग्री दर्ज किया गया।
हवा की गति के साथ बढ़ा कोहरा-
हवा की गति सुबह आठ बजे जहां 5 से 10 किलोमीटर प्रति घंटा थी। यह दोपहर एक बजे से शाम 5 बजे के बीच बढ़कर 10 से 15 किलोमीटर प्रति घंटा दर्ज की गई। इससे कोहरा-दूर-दूर दिल्ली-एनसीआर में बढ़ता चला गया। सुबह 8.30 बजे पालम एयरपोर्ट पर विजिबिलिटी 300 मीटर तक पहुंच गई, जो शाम होते-होते हवा की रफ्तार बढ़ने से 500 मीटर तक पहुंच गई।
धूल का स्तर सामान्य से 4 गुना ज्यादा-
रविवार को सड़क से उड़ने वाली धूल का स्तर सामान्य से 4 गुना से भी ज्यादा था, जबकि वाहनों के धुएं से निकलने वाले अतिसूक्ष्म कणों की मात्रा सामान्य से पांच गुना ज्यादा थी। भारत सरकार की संस्था सफर इंडिया के मुताबिक राजधानी में प्रदूषण स्तर अगले कुछ दिनों तक ऐसे ही खराब रहेगा, जिसकी वजह से दिल्लीवालों को स्वास्थ्य की समस्याएं हो सकती हैं। ऐसे में लोगों को आवश्यक सावधानियां भी बरतने की जरूरत है।
हवाओं से दिल्ली में बढ़ी सिहरन-
पहाड़ों पर बर्फबारी और बारिश के बाद 5 से 10 किलोमीटर की गति से चली हवाओं से दिल्ली में सिहरन बढ़ गई। अचानक अधिकतम तापमान 10 डिग्री सेल्सियस तक गिर गया। चमकती हुई खूबसूरत सी सुबह नौ बजते-बजते कोहरे में ढक गई। दृश्यता महज 600 मीटर रह गई। दिन चढ़ने के साथ ही कोहरा भी घना होता गया। 11 बजे दृश्यता महज 300 मीटर रह गई।
प्रभावित हुईं उड़ानें-
आईजीआई एयरपोर्ट से आवागमन करने वाली 70 से अधिक फ्लाइटों का परिचालन उनके निर्धारित समय से खासी देरी से हो सका। सोमवार सुबह आईजीआई एयरपोर्ट पर घने कोहरे के चलते दृश्यता करीब 200 मीटर पहुंच सकती है। ऐसी स्थित में कैट टू तकनीक से लैस विमानों को लैंडिंग और टेक आफ में परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। वहीं लखनऊ, जयपुर, अमृतसर और बनारस जैसे समीपवर्ती एयरपोर्ट पर घने कोहरे की वजह से विमानों के आवागमन में देरी होने की संभावना है। लिहाजा, सभी एयरलाइंस ने मुसाफिरों को सलाह दी है कि घर से निकलने से पहले फ्लाइट की वास्तविक स्थिति का जरूर पता कर लें।
कोहरे के कारण 27 ट्रेनें की गईं रीशिड्यूल-
दिल्ली में रविवार सुबह बढ़े कोहरे ने 130 ट्रेनों को प्रभावित किया। मैदानी क्षेत्रों में चलने वाली ट्रेनों में अधिक विलंब हो रहा है। गरीब रथ भागलपुर-आनंद विहार ट्रेन 24 घंटे की देरी से चल रही है। मगध एक्सप्रेस 18 घंटे और पूर्वा एक्सप्रेस-रीवा एक्सप्रेस तय समय से 14-14 घंटे देरी से चल रही हैं। कोहरे के कारण देर शाम तक 130 ट्रेनों के देरी से चलने की सूचना रेलवे की ओर से जारी की गई। वहीं यात्रियों को परेशानी से बचाने के लिए 27 ट्रेनों को री-शिड्यूल किया। कोहरे की चपेट में आने वाली ट्रेनों में नई दिल्ली-हावड़ा राजधानी, नई दिल्ली-राजेन्द्र नगर पटना राजधानी, नई दिल्ली- भुवनेश्वर राजधानी, शिआलदा राजधानी एक्सप्रेस सहित विभिन्न रूटों पर चलने वाली 19 सुपर फास्ट ट्रेनें भी शामिल हैं।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top