Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

प्रदूषण के मामले में दिल्ली सबसे आगे, डीएम रखेंगे अब नजर

सिस्टम ऑफ एयर क्वालिटी एंड वेदर फोरकास्टिंग एंड रिसर्च के आंकड़े राष्ट्रीय राजधानी के 10 स्टेशनों से एकत्र आकड़ों का योग है।

प्रदूषण के मामले में दिल्ली सबसे आगे, डीएम रखेंगे अब नजर
नई दिल्ली. दिल्ली की हवा की गुणवत्ता बुधवार को और बिगड़ गई जिसे बेहद खराब के तौर पर दर्ज किया गया। पूरे शहर में हवा में छोटे कणों का स्तर बढ़ गया है जिससे यह सुरक्षित श्रेर्णी के दायरे से बाहर चला गया है। इस स्थिति के कम से कम अगले कुछ दिनों तक बरकरार रहने की उम्मीद है।
वहीं नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने फसल को जलाकर नष्ट करने पर रोक लगाने के लिए दिल्ली, चार उत्तरी राज्यों को अधिसूचना जारी करने का निर्देश दिया। राजधानी के 10 इलाकों की पीएम 10 और पीएम 2.5 (कण जो फेफड़ों को नुकसान पहुंचा सकते हैं) औसत रीडिंग 368 और 222 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर के आस-पास है, जो सुरक्षित सीमा 100 और 60 से काफी अधिक है।
सफर (सिस्टम ऑफ एयर क्वालिटी एंड वेदर फोरकास्टिंग एंड रिसर्च) के आंकड़े राष्ट्रीय राजधानी के 10 स्टेशनों से एकत्र आकड़ों का योग है। हालांकि, दिल्ली विश्वविद्यालय, आनंद विहार, पीतमपुरा जैसे क्षेत्रों ने औसत से काफी अधिक रीडिंग दी।
दिल्ली विश्वविद्यालय के केंद्र पर पीएम 2.5 और पीएम 10 का स्तर क्रमश: 345 और 362 दर्ज किए गए। महानगर के दो छोर पर स्थित आनंद विहार और पीतमपुरा काफी प्रदूषित क्षेत्र रहे और दोपहर तक विश्व वायु गुणवत्ता सूचकांक के मामले में खतरनाक की चेतावनी हासिल की है।
यह स्वास्थ्य पर गंभीर प्रभाव की चेतावनी के तौर पर आया है। भारतीय मौसम विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि हालात में तभी सुधार होगा जब लगातार गरज के साथ छींटे पड़ते हैं और तेज गति से हवा चलती है। दोनों की संभावना फिलहाल नहीं है। अधिकारी ने कहा कि धुंध की स्थिति साल के इस समय में अनपेक्षित है।

नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, खबर से जुडी अन्य जानकारी -

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top