Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

रेप के झूठे आरोप से व्यक्ति का होता है मान-सम्मान कम: कोर्ट

दिल्ली की एक कोर्ट ने कहा कि बलात्कार का झूठा आरोप लगाने से एक व्यक्ति को बेवजह शर्मिंदगी का सामना करना पड़ता है।

रेप के झूठे आरोप से व्यक्ति का होता है मान-सम्मान कम: कोर्ट

दिल्ली की एक अदालत ने कहा कि बलात्कार का झूठा आरोप लगाने से एक व्यक्ति को बेवजह शर्मिंदगी का सामना करना पड़ता है और उसका मान-सम्मान प्रभावित होता है तथा झूठा आरोप लगाने के अपराध के लिए शिकायतकर्ता महिला आपराधिक कार्यवाही से नहीं बच सकती।

अदालत ने कहा कि इस तरह के मामलों से व्यवस्था का माखौल उड़ता है जिससे अदालत का कीमती समय बर्बाद होता है।

पूरी प्रक्रिया में गलत सूचना देकर पुलिस प्राधिकरण का भी इस्तेमाल किया जाता है, जिसके लिए कठोर कार्रवाई की जानी चाहिए, अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश शैल जैन ने पुलिस को जानबूझकर गलत सूचना देने और एक व्यक्ति के मान-सम्मान को प्रभावित करने के लिए एक महिला के खिलाफ आपराधिक कार्यवाही शुरू करने का आदेश दिया।

माहिला पर मुकदमा दर्ज

अदालत ने एक नृत्य शिक्षक को बलात्कार एवं धोखाधड़ी के आरोपों से बरी करते हुए कहा।

महिला के बयान से साफ है कि उसने यह जानते हुए कि नृत्य शिक्षक ने उसके प्रति ना तो किसी अपराध को अंजाम दिया और ना ही शादी का झूठी वादा कर उसके साथ बलात्कार किया, व्यक्ति के खिलाफ गलत शिकायत की।

महिला ने व्यक्ति के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराते हुए आरोप लगाया था कि उसने शादी का झूठा वादा कर उसके साथ 2016 में करीब एक साल तक बलात्कार किया।

Next Story
Top