Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

नोटों का भाजपा को पहले पता चल गया था: सीएम केजरीवाल

सत्येंद्र जैन ने दो हजार के नोट को ऐतिहासिक कदम बताया, लेकिन बाद में कहा कि यह ‘व्यंग’ था

नोटों का भाजपा को पहले पता चल गया था: सीएम केजरीवाल
नई दिल्ली. दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने बृहस्पतिवार को आरोप लगाया कि भाजपा और इसके ‘दोस्तों’ को अधिक मूल्य वाले नोट को अमान्य किए जाने के बारे में ‘एक हफ्ते पहले’ ही पता चल गया था। केजरीवाल ने दो हजार रुपये के नोट शुरू किए जाने पर सवाल उठाते हुए कहा कि इससे भ्रष्टाचार और काले धन को बढ़ावा मिलेगा न कि इन पर लगाम लगेगा और रुपये अमान्य किए जाने से आम आदमी काफी परेशान है। दिलचस्प बात यह है कि केजरीवाल की कैबिनेट के सहयोगी सत्येंद्र जैन ने दो हजार रुपये का नोट शुरू करने को ‘ऐतिहासिक’ कदम करार दिया, लेकिन बाद में कहा कि यह ‘व्यंग’ था।
आप प्रमुख ने एक वीडियो संदेश में कहा कि देश भर में कमीशन का धंधा चल रहा था। दिक्कत उनकी (सरकार की) मंशा में है। कई ट्वीट करते हुए केजरीवाल ने ‘पेटीएम’ के विज्ञापन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर लगाने पर निशाना साधते हुए कहा कि इस पहल का सबसे बड़ा लाभ कंपनी को मिला है। केजरीवाल ने कहा कि यह स्पष्ट है कि उनके (भाजपा) दोस्तों और अपने लोगों को निर्णय की घोषणा किए जाने से एक हफ्ते पहले सूचित कर दिया गया था। उन्होंने प्रॉपर्टी या सोना खरीदने जैसे सभी प्रबंध कर लिए हैं। भाजपा उत्तरप्रदेश और अन्य राज्यों में चुनाव लड़ने जा रही है। इसने प्रबंध कर लिए हैं।
उन्होंने कहा कि केवल आम आदमी पीड़ित है। मैंने कई लोगों से बात की, उन्होंने मुझे बताया कि काले धन वालों ने पहले ही व्यवस्था कर ली है। 15 से 20 फीसदी कमीशन के बदले उनके घर धन पहुंचा दिया जाएगा। केजरीवाल ने कहा कि उन्हें यह समझ नहीं आ रहा है कि दो हजार रूपये के नोट की शुरुआत क्यों की गई। उन्होंने कहा कि इससे केवल काला धन जमा करने में आसानी हो जाएगी। केंद्र सरकार द्वारा 500 और 1,000 रुपये के नोटों पर पाबंदी लगाने के ऐतिहासिक तथा साहसी निर्णय की, जहां देश-विदेश में सराहना की जा रही है, वहीं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस फैसले को वापस लेने की मांग करके साबित कर दिया है कि वे काले धन के खिलाफ मोदी सरकार की मुहिम से परेशान हैं।
इसका सबसे बड़ा कारण यही है कि आम आदमी पार्टी के पास करोड़ों रुपये का काला धन टिकट बेचने और चंदे के रूप में मौजूद है। वहां सारा रुपया 500 और 1,000 के नोटों के रूप में इस पार्टी के पास जमा है। ये बात नेता प्रतिपक्ष विजेंद्र गुप्ता ने बृहस्पतिवार को कहीं। गुप्ता ने कहा है कि आम आदमी पार्टी दिल्ली तथा देश से भ्रष्टाचार समाप्त करने और लोकपाल कानून बनाने के नाम पर सत्ता में आई थी। इस पार्टी से आशा थी कि वे भ्रष्टाचार के विरुद्ध केंद्र सरकार का साथ देगी तथा जनता के मार्ग दर्शन तथा सहायता के लिए जगह-जगह पार्टी के कार्यकर्ताओं को लगाएगी, परंतु हुआ ठीक इसके विपरीत। केजरीवाल ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का समर्थन करते हुए फैसला वापस लेने की मांग कर डाली। दुर्भाग्यवश पार्टी ने इसे तुगलकी फरमान बताया। आज इसी पार्टी पर काला धन लेकर टिकट बांटने के आरोप पंजाब में लग रहे हैं।

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

Next Story
Top