Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कब्र से गायब हुई बच्चे की लाश, तंत्र-मंत्र की आशंका

पुलिस मामले की छानबीन कर रही है।

कब्र से गायब हुई बच्चे की लाश, तंत्र-मंत्र की आशंका
नई दिल्ली. दिल्ली के एक कब्रिस्तान से दो माह के बच्चे की लाश गायब हो जाने का मामला सामने आया है। 3 जनवरी को बच्चे की मौत हो गई थी। उसी शाम करीब तीन बजे उसे कब्रिस्तान में दफ्न किया गया था। अगले दिन जब परिवार वाले दुआ के लिए उसकी कब्र पर पहुंचे तो कब्र खुदी पड़ी थी और बच्चे की लाश गायब थी।
यह सनसनीखेज मामला ITO के पास दिल्ली गेट कब्रिस्तान का है। मृतक बच्चे के पिता हबीब खान ने बताया कि उन्होंने 3 जनवरी को करीब 3 बजे बच्चे को कब्र में दफ्न किया था। लेकिन अगले दिन सफ़ेद चादर और चटाई में लिपटी बच्चे की लाश गायब हो गई। कब्र के ऊपर रखा गया पत्थर भी हटा हुआ था।
हबीब खान को आशंका है कि तंत्र-मन्त्र के लिए उनके बच्चे की लाश चुराई गई है। आजतक की टीम ने कब्रिस्तान में जाकर मौके का जायजा लिया तो पाया कि कब्रिस्तान के एक हिस्से में पेड़ों के झुरमुट के बीच हांडी, ताबीज़ और सिन्दूर वगैरह पड़ा हुआ है। यानी वहां तंत्र मंत्र आदि होता है।
एक आशंका यह भी है कि शायद बच्चे की लाश कब्रिस्तान में आने वाले कुत्तों ने निकाल ली हो। कब्रिस्तान में कुत्ते बहुत आते हैं। कब्रिस्तान प्रबंधन समिति लगातार नगर निगम को इस बारे में शिकायत करती रही है। लेकिन सवाल उठता है कि कब्र के ऊपर से मिटटी और उसके अन्दर रखे भारी पत्थर की सिल्ली को आखिर कुत्ते कैसे हटा देंगे? परिजन ये मानने को तैयार नहीं हैं कि ये कुत्तों का काम हो सकता है।
कब्रिस्तान के पास ही रहने वाले नईम भारती ने बताया कि इस तरह की यहां कई घटनाएं हो चुकी हैं। बच्चों की लाश कब्र से गायब हुई हैं। बाद में कब्रिस्तान के अन्दर ही चारदीवारी बना कर एक छोटे हिस्से में बच्चों को दफनाया जाने लगा है। लेकिन अब जिस बच्चे की लाश गायब हुई है, उसे इस चारदीवारी के बाहर दफ़नाया गया था।
परिजनों ने मामले की शिकायत पुलिस से कर दी है। कब्रिस्तान प्रबंधन समिति भी चाहती है कि पुलिस इस मामले की जांच करे और लाश गायब होने की वजह पता करे। समिति के सचिव हाजी मियां के मुताबिक कब्रिस्तान में दो चौकीदार हैं। लेकिन कब्रिस्तान की दीवार छोटी है, जिसे ऊंचा कराया जाना है। पुलिस मामले की छानबीन कर रही है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top