Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कोहिनूर वापसी की सूचना नहीं देगा केंद्र

मामला अदालत में विचाराधीन

कोहिनूर वापसी की सूचना नहीं देगा केंद्र

नई दिल्ली. केंद्र सरकार ने ब्रिटेन से कोहिनूर हीरा वापस लाने को लेकर भारत के प्रयासों की जानकारी देने से यह कहते हुए इन्कार कर दिया है कि मामला अदालत में विचाराधीन है। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण ने प्रेस ट्रस्ट की ओर से दायर आरटीआई के जवाब में कहा, ब्रिटेन से कोहिनूर वापस लाने के संबंध में भारत के उच्चतम न्यायालय में एक याचिका दायर की गई है। चूंकि मामला अदालत में विचाराधीन है, इसलिए कोई सूचना मुहैया नहीं कराई जा सकती। प्रेस ट्रस्ट ने विदेश मंत्रालय में अर्जी देकर कोहिनूर वापस लाने के लिए उठाए गए कदमों के बारे में जानकारी मांगी थी।

अर्जी में ब्रिटेन को लिखे गए पत्र और मिले जवाबों की प्रतियां भी मांगी गई थी। विदेश मंत्रालय ने इस अर्जी को संस्कृति मंत्रालय के पास भेज दिया था। कोहिनूर हीरा वापस लाने का मुद्दा पिछले कुछ दिनों से खबरों में है।उच्चतम न्यायालय में जनहित याचिका पर सुनवाई के दौरान सरकार ने कहा था कि हीरे को न तो चुराया गया था और न ही जबर्दस्ती ले जाया गया था। उसे 167 वर्ष पहले पंजाब के तत्कालीन शासकों ने ईस्ट इंडिया कंपनी को उपहार में दिया था। हालांकि, इसके अगले दिन उसने कहा कि कोहिनूर वापस लाने के सभी प्रयास किए जाएंगे।

उल्लेखनीय है कि कोहिनूर हीरे का स्वामित्व विवाद का विषय है और इस पर भारत सहित कम-से-कम चार देश दावा करते हैं। इससे पहले एक अन्य आरटीआइ आवेदन का जवाब देते हुए पुरातत्व सर्वेक्षण ने कहा था कि भारत केवल ऐसे ऐतिहासिक वस्तुओं को वापस लेने का मुद्दा उठाता है, जिसे अवैध रूप से भेजा गया हो।
पुरातत्व सर्वेक्षण ने कहा था कि कोहिनूर को स्वतंत्रता से पहले देश से ले जाया गया था। ऐसे में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण कार्रवाई करने की स्थिति में नहीं है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलोकरें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top