Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

श्री श्री रविशंकर ने डीडीए को चुकाया 4.5 करोड़ का हर्जाना

एनजीटी ने लगाया था 5 करोड़ का जुर्माना

श्री श्री रविशंकर ने डीडीए को चुकाया 4.5 करोड़ का हर्जाना
X
नई दिल्ली. आर्ट ऑफ लिविंग संस्था ने पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने के आरोप में 4.5 करोड़ का हर्जाना दिल्ली डेवलपमेंट अथॉरिटी को चुकाया हैं। यमुना किनारे हुए विश्व सांस्कृतिक महोत्सव पर एनजीटी ने 5 करोड़ का जुर्माना लगाया था। एनआइए के मुताबिक: श्री श्री रविशंकर की संस्था ने डिमांड ड्राफ्ट के जरिये डीडीए को 4.5 करोड़ का जुर्माना भर दिया है।
एनजीटी ने लगाया था 5 करोड़ का जुर्माना
मार्च में आर्ट ऑफ लिविंग द्वारा करवाए गए विश्व सांस्कृतिक महोत्सव पर ग्रीन ट्रिब्यूनल ने रोक लगा दी थी और साथ ही संस्था को 5 करोड़ का जुरमाना एक हफ्ते के अंदर भरने का भी फरमान सुनाया था। कार्यकर्ताओ के एक समूह ने एनजीटी से गुहार लगायी थी की किसी भी संस्था को पर्यावरण को नुकसान पहुंचने वाले कार्यक्रमों के आयोजन की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए । जिसके बाद ही एनजीटी ने आर्ट ऑफ़ लिविंग कार्यक्रम पर रोक लगाते हुए 5 करोड़ जुर्माना भरने को कहा।लेकिन उस वक्त श्री श्री की संस्था ने 25 लाख रुपए देकर बाकी हर्जाने को कार्यक्रम के बाद देने का वादा किया।
जांच कमिटी गठित
एनजीटी के चेयरपर्सन जस्टिस स्वतन्तर कुमार ने एक जांच कमिटी गठित की और उन्हें आदेश दिया कि वह यमुना को हुए नुकसान और प्रदूषण के बारे में एक विस्तृत रिपोर्ट एनजीटी को सौंपे। 25 मई को हुई सुनवाई में इनजीटी ने आर्ट ऑफ़ लिविंग संस्था से यमुना को प्रदूषित करने की भरपाई मांगी थी तब संस्था ने पेमेंट कैश में न देकर बैंक गारंटी देने को कहा था। श्री श्री रविशंकर ने इसे अन्याय बताया और सुप्रीम कोर्ट तक जाने की बात कही थी। किसी तरह के गलत कदम को न उठाने का भी दावा किया था। साथ ही उन्होंने कहा कि उन्होंने कोई नियम नहीं तोडा है। वहीं राष्ट्रीय ग्रीन ट्रिब्यूनल ने पर्यावरण के साथ किसी भी तरह छेड़छाड बर्दाश्त न करने को कहा था।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story
Top