Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अनिर्बान की बड़ी मुश्किलें, ‘मुज़फ्फरनगर बाक़ी है’ की स्क्रीनिंग के लिए कारण बताओ नोटिस जारी

जेएनयू प्रशासन ने अनिर्बान भट्टाचार्य को ‘मुज़फ्फरनगर बाक़ी है’ की स्क्रीनिंग के लिए कारण बताओ नोटिस जारी किया।

अनिर्बान की बड़ी मुश्किलें, ‘मुज़फ्फरनगर बाक़ी है’ की स्क्रीनिंग के लिए कारण बताओ नोटिस जारी
नई दिल्ली. जेएनयू के छात्र अनिर्बान भट्टाचार्य के लिए मुश्किलें खत्म नहीं हो रही हैं। हाल ही में जेएनयू की 5 सदस्यों वाली उच्चस्तरीय जांच कमेटी ने अनिर्बान भट्टाचार्य को 15 जुलाई तक के लिए निष्कासित कर दिया है, साथ ही भट्टाचार्य अगले पांच साल तक जेएनयू से कोई भी पाठ्यक्रम नहीं कर पाएंगे। NDTV की न्यूज के मुताबिक अनिर्बान को पिछले साल अगस्त में डॉक्यूमेंट्ररी ‘मुज़फ्फरनगर बाक़ी है’ की स्क्रीनिंग के लिए एक कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है।
नोटिस में कहा गया है कि अगस्त 2015 में चीफ प्रॉक्टर के कार्यालय में आपके खिलाफ शिकायत आयी थी। इसमें आरोप लगाया गया कि आपने प्रशासन की मंजूरी के बिना गोदावरी ढाबे के पास की गयी ‘मुज़फ्फरनगर ब़ाकी है’की स्क्रीनिंग में हिस्सा लिया।’ नोटिस में आगे लिखा गया है कि 'आपको चार मई को प्रॉक्टर के सामने पेश होने और अपना रूख़ स्पष्ट करने का निर्देश दिया जाता है। आप अगर अपने बचाव में कोई सूबत देना चाहे तो वह लेकर आ सकते हैं।
बता दें कि इससे पहले जेएनयू प्रशासन ने राष्ट्रद्रोह के आरोप में घिरे जवाहरलाल नेहरू विश्विविद्यालय छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार पर अनुशासनहीनता के मामले में 10,000 रुपये का जुर्माना लगा चुका है। वहीं दूसरे छात्र उमर खालिद को एक सत्र के लिए निलंबित कर दिया गया है और साथ ही 20,000 रुपये का जुर्माना भी लगा है। और अनिर्बान को 5 साल के लिए जेएनयू से बाहर कर दिया गया है।
आगे की स्लाइड्स में पढ़िए, खबर से जुड़ी अन्य जानकारियां-
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलोकरें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top