Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

दिल्ली में हर चौथे घंटे हुआ एक ''रेप'', रोज चोरी हुईं 21 कारें

दिल्ली में इस साल कार और वाहनों की चोरी ज्यादा हुई है।

दिल्ली में हर चौथे घंटे हुआ एक
नई दिल्ली. दिल्ली पुलिस ने साल 2016 के क्राइम डा़टा के आंकड़े के मुताबिक राजधानी में होने वाले अपराधों की एक रिपोर्ट पेश की है। इस रिपोर्ट में बताया गया है कि, दिल्ली में हर 4 घंटे में एक महिला के साथ दुष्कर्म होता है वहीं रोजाना करीब बीस से इक्कीस कार चोरी होती हैं। दिल्ली मे महिलाओं के खिलाफ अपराधों में मामूली कमी दर्ज की गई है लेकिन मोटर वाहन चोरी के मामलों में बढ़ोत्तरी हुई है। पिछले साल के मुकाबले इस साल कार और वाहनों की चोरी ज्यादा हुई है।
हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली पुलिस द्वारा जारी किए गए नवीनतम वार्षिक अपराध के आंकड़ों से पता चलता है कि राजधानी में महिलाओं के खिलाफ छेड़छाड़ के 5328 मामले दर्ज हुए थे वहीं 2016 में इनमें 4,005 की कमी आई है। महिलाओं के खिलाफ अपराधों में मामूली कमी दर्ज की गई है। तो वहीं दिल्ली में डकैती के 4,538 मामले दर्ज किए गए थे जो बढ़कर 7141 हो गए हैं।
हर चार घंटे में होता है एक दुष्कर्म-
2016 की रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली में हर चार घंटे में एक महिला दुष्कर्म की शिकार होती है। वहीं पिछले साल 2,069 रेप केस दर्ज हुए थे और 2016 में 2029 मामले दर्ज किए गए हैं। इनमें से पुलिस केवल 1,744 मामलों को ही सॉल्व करने में कामयाब रही है। वहीं 2016 में दिल्ली में भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) के तहत 8.88 फीसदी एफआईआर दर्ज करवाई गई हैं।
नोटबंदी से चोरी-डकैती के मामलों में आई कमी-
रिपोर्ट में कहा गया है कि डकैती के मामलों में 35.45% की गिरावट दर्ज की गई। पुलिस का मानना ​​है नोटबंदी चोरी-डकैती के मामलों में आई कमी एक बड़ा कारण हो सकता है। 8 नवम्बर और 9 दिसंबर के इस एक महीने के बीच इस साल 315 डकैती के मामले दर्ज हुए, जो पिछले साल इसी महीने में 561 थे। एक अधिकारी का कहना था कि "डकैती के मामलों में 35.45 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है। इसका कारण नोटबंदी है क्योंकि लोगों के पास कैश नहीं है। इसलिए चोरी-डकैती के मामलों में कमी आई है।
सनसनीखेज हत्याओं ने उड़ाई पुलिस की नींद-
रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली में हत्या के मामलों में भी कमी आई है। 530 से खिसककर यह संख्या 490 पहुंच गई। तो वहीं कुछ सनसनीखेज हत्याओं के मामलों ने पुलिस की नींदे उड़ा दी थी। हालांकि दिल्ली पुलिस भी साल भर विवादों से घिरी रही है। यह मामला जेएनयू छात्र नेता कन्हैया को देशद्रोह के आरोप में गिरफ्तार करने से शुरु हुआ था। जिसके कारण दिल्ली पुलिस को काफी विरोध प्रदर्शनों का सामना करना पड़ा था।
सालभर विवादों में रही दिल्ली पुलिस-
वहीं अपराधों के अलावा दिल्ली पुलिस साल 2016 में वाहनों की चोरी को राकने में भी नाकाम रही है। पिछले साल के मुकाबले इस साल 5,250 वाहनों की चोरी हुई है। 36,137 वाहन चोरी के मामलों को लेकर पुलिस का कहना है कि वे हरियाणा, उत्तर प्रदेश और राजस्थान में अपने समकक्षों के साथ मिलकर मोटर वाहन चोरी पर रोक लगाने का प्रयास कर रहे हैं।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top