Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पैर में मोच आने पर फुटबॉल खिलाड़ी की मौत

अगर चोट के बाद लगातार बुखार रहता है तो इन्फेक्शन को रोकने के लिए तुरंत खून की जांच करनी चाहिए।

पैर में मोच आने पर फुटबॉल खिलाड़ी की मौत

खेल के मैदान में लगने वाली मालूमी सी भी चोट को आप कभी नजरअंदाज ना करें। एक मामूली सी चोट आपकी जान ले सकती है। ऐसा ही एक मामला देखने को मिला है दिल्ली के रहने वाले 15 साल के विशाल के साथ। विशाल के टखने में फुटबॉल खेलते वक्त हल्की सी चोट लग गई जिसके बाद उसकी मौत हो गई।

विशाल के परिवार वालों का कहना है कि उसको किसी भी तरह की गंभीर बीमारी नहीं थी, फिर भी मल्टी-ऑर्गन फेलियर की वजह से उसकी मौत हो गई।

विशाल 10 जुलाई को फुटबॉल खेल रहा था, तभी उसका पैर मुड़ गया। पैर में मोच थी इसलिए उसे अस्पताल ले जाया गया। उसके पैर में दर्द हो रहा था और सूजन भी आ गई थी। डॉक्टरों ने पैर में प्लास्टर कर दिया।

लेकिन प्लास्टर के बाद भी विशाल का दर्द कम नहीं हो रहा था तो उसे अगले दिन फिर अस्पताल ले जाया गया। डॉक्टर ने उसे दर्द की दवा दे दी। लेकिन इसके बाद भी जब विशाल को दर्द में आराम नहीं मिला तो उसका बल्ड टेस्ट करवाया गया। अस्पताल के मेडिकल डायरेक्टर डॉक्टर रणबीर सिंह ने कहा कि ब्लड टेस्ट के बाद पता चला कि इन्फेक्शन नॉर्मल रेंज से ज्यादा था। डॉक्टर ने बताया कि किसी भी तरह की कॉम्प्लिकेशन से बचने के लिए ऐंटीबायॉटिक्स दी गईं।

अस्पताल ने विशाल को सफदरजंग हॉस्पिटल रेफर कर दिया। फेफड़ों संबंधी विभाग के हेड और प्रफेसर डॉक्टर जेसी सूरी ने बताया, 'जब वह हमारे हॉस्पिटल में आया, इन्फेक्शन सारे अंगों में फैल चुका था। हमने उसे वेंटिलेटर पर रखा और उसे ब्रॉड स्पेक्ट्रम ऐंटीबायॉटिक दी, लेकिन उससे कोई फायदा नहीं हुआ। मंगलवार की सुबह उसने दम तोड़ दिया।'

यह अंदेशा लगाया जा रहा है कि विशाल को पहले से कोई अंदरूनी चोट लगी होगी, जिसका इलाज नहीं किया गया। धीरे-धीरे वह इन्फेक्शन घातक स्थिति में पूरे शरीर में फैलता चला गया।

Next Story
Top