Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

उदित राज ने निकाला आरक्षण बचाओ मार्च

आरक्षण पर सुप्रीम कोर्ट द्वारा ताजा फैसले के आलोक में शनिवार को उदित राज ने आरक्षण बचाओ संघर्ष समिति के बैनर तले आरक्षण बचाओ मार्च निकाल कर मांग की है कि आरक्षण विरोधी आदेश निरस्त किया जाए। इस मार्च में सैकड़ों लोगों ने भाग लिया। मार्च मार्च मंडी हाउस से शुरू होकर जंतर मंतर तक पंहुचा, जहां एक सभा आयोजित कि गयी।

उदित राज ने निकाला आरक्षण बचाओ मार्चप्रतीकात्मक फोटो

आरक्षण पर सुप्रीम कोर्ट द्वारा ताजा फैसले के आलोक में शनिवार को उदित राज ने आरक्षण बचाओ संघर्ष समिति के बैनर तले आरक्षण बचाओ मार्च निकाल कर मांग की है कि आरक्षण विरोधी आदेश निरस्त किया जाए। इस मार्च में सैकड़ों लोगों ने भाग लिया। मार्च मार्च मंडी हाउस से शुरू होकर जंतर मंतर तक पंहुचा, जहां एक सभा आयोजित कि गयी।

उदित राज ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि भारतीय जनता पार्टी कि उत्तराखंड की सरकार ने 7 फरवरी, 2020 को सुप्रीम कोर्ट में महंगे वकीलों से बहस करायी कि अनुच्छेद 16 और 16 (4) ए, जिनमें आरक्षण का प्रावधान है, मौलिक अधिकार नहीं है।

उच्च न्यायपालिका प्राय: आरक्षण विरोधी फैसले देती रहती है और इस मामले में भी ऐसा ही किया गया। संविधान के तीसरे अध्याय में सारे अनुच्छेद मौलिक अधिकार हैं, तो कैसे इसके दो व्याख्यान हो सकते हैं? कुछ को मौलिक अधिकार मान लिया जाय और कुछ को ना माना जाय, प्रथम दृष्टिया में ही यह भेदभाव लगता है यह एक सामान्य आदमी भी समझ सकता है।

उदित राज ने आगे कहा कि यह षड्यंत्र भाजपा और संघ का है। उन्होंने मांग की है कि 7 फरवरी का आरक्षण विरोधी आदेश निरस्त किया जाये, आरक्षण की नौवीं सूची में रखा जाये और उच्च न्यायपालिका में दलितों, पिछड़ों, आदिवासियों और महिलाओं कि भागीदारी सुनिश्चित की जाये। इस दौरान

इस मार्च में डॉ. ओम सुधा, बलराम वर्मा, महेश्वर राज, सुरेश चौधरी, पूर्व विधायक, अमरीश गौतम पूर्व विधायक वीर सिंह जगान, पूर्व विधायक बिनोद कुमार आदि शामिल हुए।

Next Story
Top