Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Delhi Election Results: ओखला विधानसभा से AAP के अमानतुल्लाह खान को मिली सबसे बड़ी जीत, शाहीन बाग के कारण सबकी थी नजर

Delhi Election Results: दिल्ली विधानसभा चुनाव के नतीजे आ गए हैं। जिसके बाद शाहीन बाग वाली ओखला विधानसभा सीट पर अब तक की सबसे बड़ी जीत का डंका अमानतुल्लाह खान ने बजाया है। लेकिन शाहीन बाग के लोग तो कुछ और ही कह रहे हैं।

Delhi Election Results: ओखला विधानसभा से अमानतुल्लाह खान को मिली सबसे बड़ी जीत, शाहीन बाग के कारण इस सीट पर थी सबकी नजर
X
अमानतुल्लाह खान

Delhi Election Results: दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 के नतीजों में सबसे ज्यादा वोटों से जीतने वाले अमानतुल्लाह खान ने रिकॉर्ड कायम किया है। उन्होंने बीजेपी के प्रत्याशी ब्रहम सिंह को 77 हजार से अधिक वोटों से हराया है।

अमानतुल्लाह खान शाहीन बाग के ओखला विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ रहे थे। बता दें कि शाहीन बाग दो महीने से प्रदर्शन का केन्द्र बना हुआ है। यहां महिलाओं ने सीएए और एनआरसी के खिलाफ प्रदर्शन जारी रखा है। अमानतुल्लाह खान का ऐसे माहौल में इतने ज्यादा वोटों से जीतना आप पार्टी के लिए गर्व की बात है।

इसके साथ ही, शाहीन बाग में प्रदर्शनकारियों ने आज मौन धरना किया। प्रदर्शनकारी अपने हाथ में पोस्टर लिए हुए थे, जिन पर लिखा था 'हम किसी पार्टी को सपोर्ट नहीं करते'। इसके बावजूद शाहीन बाग में 58 प्रतिशत मतदान हुआ और अमानतुल्लाह खान विजयी हुए। बीच में एक-दो मौके आए थे जब अमानतुल्लाह खान पीछे होते हुए दिखाई पड़े थे। लेकिन अंत में 77 हजार से ज्यादा वोट पाकर उन्होंने सबको चौंका दिया।

ओखला पर थी सबकी नजर

ओखला विधानसभा सीट पर हर एक की नजर टिकी हुई थी। इसका कारण यह था कि जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी और शाहीन बाग दोनों ओखला विधानसभा के अन्तर्गत आते हैं। लेकिन आजकल ओखला जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी से ज्यादा शाहीन बाग की वजह से चर्चा का केन्द्र बना हुआ है। बता दें कि ओखला में 43 प्रतिशत आबादी मुस्लिमों की है जिसकी वजह से अमानतुल्लाह खान को ज्यादा फायदा मिला है।

अरविंद केजरीवाल पर साधा था निशाना

बीजेपी ने शाहीन बाग को लेकर अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधा था। जिसमें कहा गया था कि अरविंद केजरीवाल ने ही शाहीन बाग की आग को बुझाने की कोशिश नहीं की। उन्होंने ही शाहीन बाग की फाइल को आगे नहीं बढ़ाया जिससे शाहीन बाग पर अभी तक प्रदर्शन चल रहा है।

सीएए-एनआरसी है बड़ी वजह

शाहीन बाग से बीजेपी के हारने की सबसे बड़ी वजह सीएए और एनआरसी है। शाहीन बाग के लोग बीजेपी से पहले से नाराज थे। ये भी एक कारण है कि अमानतुल्लाह खान को ओखला से इतनी बड़ी जीत हासिल हो पाई।

1977 के बाद आप ने छीनी थी ये सीट

1977 में पहली जीत जनता पार्टी के उम्मीदवार को मिली थी। जिसके बाद से इस सीट पर कांग्रेस ही जीतती रही है। लेकिन 2015 के दिल्ली विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी ने कांग्रेस से यह सीट छीन ली थी। फिर 2020 के दिल्ली चुनाव में भी आप के प्रत्याशी ने ही इस सीट को जीता।

Next Story
Top