Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

भजनपुरा में बुआ के बेटे ने ऐसे किए चार कत्ल, शराब पिलाकर भाई को मारा

भजनपुरा पुलिस को एक मकान से दुर्गंध आने की सूचना मिली। पहुंची पुलिस ने देखा कि बाहर से दरवाजा बंद था। पुलिस ताला तोड़कर अंदर दाखिल हुई तो उन्होंने देखा कि एक कमरे में दंपति और दूसरे कमरे में उसने तीन बच्चों के शव खून से लथपथ पड़े हुए थे।

चार घंटे में एक ही परिवार के चार लोगों का किया कत्लहत्याकांड (प्रतीकात्मक फोटो)

भजनपुरा में चौधरी फैमिली हत्याकांड का खुलासा हो गया है। नॉर्थ-ईस्ट जिले के स्पेशल स्टाफ और भजनपुरा थाना पुलिस ने चौधरी फैमली हत्याकांड का खुलासा 24 घंटों के अंदर कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। गिरफ्तार आरोपी कोई और नहीं बल्कि मृतक की बुआ का बेटा है।

गिरफ्तार आरोपी का नाम प्रभू नाथ (26) है। पूछताछ के दौरान आरोपी ने बताया कि मृतक से 30 हजार रुपये उधार लिये थे। रुपये के चलते ही दोनों के बीच कहासुनी होती थी। इसके चलते उसने वारदात को अंजाम दिया है। पुलिस ने आरोपी के पास से मकान की चाबी, लोहे की रॉड बरामद की हैं। पुलिस आरोपी से पूछताछ कर मामले की जांच कर रही है।

पूर्वी रेंज के संयुक्त आयुक्त आलोक कुमार ने बताया कि बुधवार सुबह करीब 11:16 बजे भजनपुरा पुलिस को एक मकान से दुर्गंध आने की सूचना मिली। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंच गई। मौके पर पहुंची पुलिस ने देखा कि बाहर से दरवाजा बंद था। पुलिस ताला तोड़कर अंदर दाखिल हुई तो उन्होंने देखा कि एक कमरे में दंपति और दूसरे कमरे में उसने तीन बच्चों के शव खून से लथपथ पड़े हुए थे। शव को देखकर लग रहा था कि हत्या कई दिनों पहले की गई है।

जांच में मृतकों की पहचान शंभूनाथ चौधरी (45), पत्नी सुनीता (40), बेटे शिवम कुमार (17), सचिन (14) और बेटी कोमल (12) के रूप में हुई। पुलिस को मौके से एक हथौड़ा और आरी भी मिली थी। पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज कर आरोपी को पकड़ने के लिए एक टीम का गठन किया। टीम ने आरोपियों को पकड़ने के लिए घटना स्थल के आसपास लगे सीसीटीवी फुटेज खंगालने के अलावा बच्चों के स्कूल से भी जानकारी जुटाई। जांच में पुलिस को आरोपी एक सीसीटीवी में भी दिखाई दे रहा है। आगे पुलिस को पता चला कि बच्चे गत तीन फरवरी के बाद से स्कूल नहीं आये थे।

इसके बाद पुलिस को यह पता लग गया कि हत्या तीन तारिख को ही की गई है। पुलिस ने शंभूनाथ के फोन की कॉल डिटेल निकाली तो आखिरी कॉल प्रभू मिश्रा को किया गया था। इसके बाद पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया। पूछताछ के दौरान आरोपी ने अपना गुनाह कबूल लिया। पूछताछ के दौरान आरोपी ने बताया कि उसने शंभूनाथ से 30 हजार रुपए उधार लिये थे। रुपये को लेकर दोनों के बीच अक्सर झगड़ा होता था।

बुधवार को आरोपी ने शंभूनाथ को लक्ष्मी नगर में रुपए लेने के बुलाया था। आरोपी लक्ष्मी नगर जाने से पहले करीब तीन बजे शंभूनाथ के घर गया। यहां रुपये को लेकर प्रभू का झगड़ा शंभूनाथ की पत्नी सुनीता से हुआ था। इस पर आरोपी ने सुनीता की लोहे की रॉड से हत्या कर दी।

इसके बाद सुनीता की बेटी कोमल घर आई तो आरोपी ने लोहे की रॉड से उसके सिर पर हमला कर उसकी भी हत्या कर दी। आरोपी ने ऐसे ही सुनीता के बेटे शिवम और सचिन की हत्या की। इस तरह आरोपी ने चार घंटे में चार लोगों को मौत के घाट उतार दिया। इसके बाद आरोपी ने शंभूनाथ को फोन कर बुलाया और उसके साथ शराब पीकर घर आया, जिसके बाद उसने शंभूनाथ की भी हत्या कर दी।

Next Story
Top