logo
Breaking

महिला संरपच ने पड़त भूमि को गार्डन में तब्दील कर ग्रामीणों को दी शानदार सौगात

गरियाबंद। फिंगेश्वर विकासखण्ड के ग्राम पंचायत कुम्ही की महिला सरपंच रेणुका साहू ने ऐसा कार्य किया कि वो जिले मे मिसाल बन गई है। गांव की पांच एकड़ पड़त भूमि में गार्डन बनाकर नायाब उपहार दिया है

महिला संरपच ने पड़त भूमि को गार्डन में तब्दील कर ग्रामीणों को दी शानदार सौगात

महिला संरपच ने पड़त भूमि को गार्डन में तब्दील कर ग्रामीणों को दी शानदार सौगात

गरियाबंद। फिंगेश्वर विकासखण्ड के ग्राम पंचायत कुम्ही की महिला सरपंच रेणुका साहू ने ऐसा कार्य किया कि वो जिले मे मिसाल बन गई है। गांव की पांच एकड़ पड़त भूमि में गार्डन बनाकर नायाब उपहार दिया है, जिससे ग्रामवासी शुद्ध पर्यावरण और ताजी हवाओं का आनंद ले रहे है। गार्डन में न केवल ग्राम के रहवासी, बल्कि आसपास के ग्रामीण भी टहलने आते हैं।
ग्राम पंचायत की सरपंच की इस सकारात्मक सोच का पंचायत प्रतिनिधि ने भी भरपूर समर्थन किया और पंचायत मे सर्वसम्मति से प्रस्ताव पारित कर गार्डन विकसित करने की योजना को साकार किया। गांव के इस जमीन पर अतिक्रमण का खतरा मंडरा रहा था, जिसे भांपते हुए इस शानदार कार्य को मूर्त रूप मिली। बकली रोड़ की ओर 5 एकड़ क्षेत्र में विकसित इस गार्डन की सुन्दरता देखते ही बनती है। राहगीरों का ध्यान भी बरबस ही अपने ओर खीचता है। फलदार, फूलदार और सजावटी पौधों से सजे इस गार्डन में सिंचाई हेतु 5 एचपी का मोटर पम्प लगाया गया है, तथा पाइप लाइन बिछाकर सिचाई की जाती है। एक बड़ा चबूतरा बनाया गया है, जिसमे बैठकर सुकून महसूस किया जा सकता है।
दोनों ओर पक्की नाली के जरिये पानी की निकासी सुनिश्चित किया गया है। पंचायत की अच्छी सोच का परिणाम गार्डन विकसित करने में शासन की योजनाओं का अभिसरण भी बेहतर तरीके से किया गया है। गार्डन के क्षेत्र में मनरेगा से एक बड़ा तालाब बनाया गया है जो जलसंवर्धन और निकासी पानी के सरंक्षण के लिए उपयोगी है। गार्डन के बाउण्ड्रीवाल को आकर्षक पेंट एवं चित्रो से सजाया गया है जो काफी आकर्षक लगता है। रात्रि में गार्डन एल ई डी लाईट की रौशनी से जगमगा उठता है, जिससे गार्डन की सुन्दरता और निखर जाती है। विगत दिनों गार्डन का अवलोकन कर कलेक्टर श्याम धावड़े का कहना है कि ग्राम कुम्ही में गार्डन विकसित हुआ है, जो पंचायत के अच्छी सोच का परिणाम है। संम्भतः यह जिले का पहला गांव है, जहां 5 एकड़ क्षेत्र में खुबसूरत गार्डन बनाया गया है।
सुकून भरा वातावरण
गांव के सेवकराम साहू कहते है कि बच्चें, बूढ़े और युवा लोग भी गार्डन का मजा ले रहे है, यहां आकर सुकुन भरा वातावरण से मन आनंदित हो जाता है। गांव के ही युवक हरिशंकर ने कहा कि हम प्रतिदिन अपने दोस्तो के साथ यहां टहलने आते है। यहां की शांत वातावरण में हम पढ़ाई और कैरियर के संबंध में भी तैयारी करने में मदद मिलती है।
सहयोग से हुए संभव कुंभ नगरी राजिम से मात्र चार किलोमीटर की दूरी पर स्थित दो हजार आबादी वाले गांव की तस्वीर बदल रही है। शहरों की भांति ग्राम मे ही यह सुविधा मिलने से ग्रामीण भी खुश है। सरपंच रेणुका साहू का कहना है कि इसे विकसित करने में जनपद स्तर पर भी सहयोग मिला और पंचायत प्रतिनिधि के अलावा ग्रामवासियों का भी सहयोग मिला, जिससे यह संभव हो सका।
Share it
Top