logo
Breaking

मुख्यमंत्री भूपेश के काफिले में होगी अब 9 गाड़ियां, एंबुलेंस को न रोकने के दिए निर्देश

सीएम के काफिले की वजह से आम जनता की परेशानी को देखते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अपना काफिला छोटा कर दिया है। मतलब उनके काफिले में 13 गाड़ियों की जगह अब मात्र 9 गाड़ियां ही होंगी। वहीं उन्होंने अफसरों को काफिले के गुजरने के दौरान एंबुलेंस को न रोकने के निर्देश भी दिए।

मुख्यमंत्री भूपेश के काफिले में होगी अब 9 गाड़ियां, एंबुलेंस को न रोकने के दिए निर्देश

सीएम के काफिले की वजह से आम जनता की परेशानी को देखते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अपना काफिला छोटा कर दिया है। मतलब उनके काफिले में 13 गाड़ियों की जगह अब मात्र 9 गाड़ियां ही होंगी। वहीं उन्होंने अफसरों को काफिले के गुजरने के दौरान एंबुलेंस को न रोकने के निर्देश भी दिए।

बता दें सीएम प्रोटाकॉल में पहले मुख्यमंत्री के काफिले में 13 गाड़ियां हुआ करती थी, लेकिन मुख्यमंत्री भूपेश के निर्देश पर काफिले में गाड़ियों की संख्या कर दी गई है। अब उनके काफिले में महज 9 गाड़ियां होंगी। हालांकि इसके पहले पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह को एनएसजी सिक्युरिटी मिली थी इस वजह से उनके काफिले में एक दो गाड़ियां ज्यादा हुआ करती थी।
दरअसल, मुख्यमंत्री ने काफिला कम करने का निर्देश आम जनता को ट्रैफिक में होने वाली परेशानी को देखते हुए दिया है। इतना ही नहीं उन्होंने अफसरों को इस बात के भी निर्देश दिये हैं कि सीएम के काफिले की वजह से एंबुलेंस को नहीं रोका जाए।
उन्होंने अफसरों को कहा कि कई बार काफिले की वजह से एंबुलेंस भी फंसी रह जाती है, ऐसे में इमरजेंसी सेवाएं बाधित ना हो, इसका भी ख्याल रखा जाये।
वहीं ट्रैफिक को भी लंबे समय तक बाधित नहीं रखने का भी निर्देश मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अफसरों को दिया है। उन्होंने कहा है कि काफिले के वक्त ये कोशिश की जाए, कि किसी भी सिग्नल पर ट्रैफिक ज्यादा वक्त तक ना रोकी जाए।
दरअसल सीएम सिक्युरिटी की वजह से ट्रैफिक को लंबे वक्त तक के लिए रोक दिया जाता है जिससे ट्रैफिक तो बढ़ता ही है साथ ही लोगों को दिक्कतों को सामना करना पड़ता था, उसी को ध्यान में रखते हुए उन्होंने ये निर्देश दिया है।
Share it
Top