logo
Breaking

बेमौसम बारिश के चलते खराब हुई टमाटर की फसल, अधिकारी झाड़ रहे पल्ला

पिछले दिनों अचानक मौसम में आए बदलाव के चलते जशपुर जिले के किसानों पर इन दिनों चौरफा मार पड़ी है। बेवक्त हुई बारीश के कारण टमाटर की फसल बुरी तरह से खराब हो गई है। हर साल की तरह इस साल भी टमाटर की खेती बेहतर होगी।

बेमौसम बारिश के चलते खराब हुई टमाटर की फसल, अधिकारी झाड़ रहे पल्ला
किसानों पर मौसम का कहर टूट पड़ा है। बीते कुछ दिनों से हो रही लगातार बारिश से टमाटर उत्पादक किसानों के लिए मुसीबत की बारिश बन चुकी है। बादल और बारिश ने खेत में तैयार फसलों को बर्बाद कर दिया है। बेवक्त हुई बारीश के कारण टमाटर की फसल बुरी तरह से खराब हो गई है। अब एक और जहां किसानों को कर्ज की चिंता सताए जा रही है वहीं सिस्टम में बैठै अधिकारी अपना अलग तर्क देकर इससे पल्ला झाड़ रहे हैं।
किसानों का कहना है कि जब हमें पानी की जरूरत थी तब मिला नहीं और अब बेमौसम बरीश ने पूरी खेती खराब कर दी। जैसे तैसे कर्ज लेकर टमाटर की फसल लगाई थी जो बर्बाद हो गई और जो टमाटर बचा है उसका बाजार में सही दाम नहीं मिल रहा। जिसके बाद अब किसानों को यह चिंता सताए जा रही है कि कर्ज लेकर फसल तो लगा ली लेकिन अब कर्ज कैसे चुकाएंगे।
किसानों द्वारा लाख मिन्नतों के बाद उद्यान विभाग ने जिले में टमाटर के लिए प्रोसेसिंग प्लांट लगाया था जो कुछ दिन बाद ही बंद हो गया। प्लांट लगने के बाद किसान खुश थे यह सोच कर कि अब उनकी फसल बर्बाद नहीं होगी और उन्हें उचित दाम भी मिलेगा। अफसोस किसानों की उम्मीद धरी की धरी रह गई। प्लांट से किसानों को कुछ फायदा मिलता उससे पहले ही वह बंद हो गया।
वहीं सरकारी अफसरों का कहना है कि अगर ओला पत्थर गिरता तो जरूर फसल को नुकसान होता लेकिन अभी जो बारिश हुई है इससे फसल को कोई नुकसान नहीं हुआ है। बल्कि फायदा है। प्रोसेसिंग स्थानीय स्तर पर लोगों के द्वारा इंटरेस्ट न लेने के कारण वर्तमान में बंद है।
Share it
Top