logo
Breaking

कोंटा में एक बार फिर से बाढ़ की आशंका, शबरी गोदावरी में बढ़ा जलस्तर

बीतें चार दिन पहले शबरी नदी उफान पर होने के चलते बाढ़ की स्थिति थी,तो अभी फिर से शबरी व गोदावरी में पानी बढ़ने से कोंटा सहित पड़ोसी राज्य चिड़मुड़ व एर्राबोर के शबरी तट पर बसे बर्रेमोगा, ओडिनगुड़ा,इकलगुड़ा पाराओं में बसे लोगों की परेशानी बढ़ सकती है । इधर इंजरम, चिकवागुड़ा,एर्राबोर के एन एच पुलियाओं में पानी चढ़ जाने की गुंजाइश,बंद हो सकती है अब से कुछ घटों बाद एन एच मार्ग 30 । एसडीएम प्रदीप वैध के निर्देश बाद कोंटा तहसीलदार एर्राबोर पहुंचे है.

कोंटा में एक बार फिर से बाढ़ की आशंका, शबरी गोदावरी में बढ़ा जलस्तर

बीतें चार दिन पहले शबरी नदी उफान पर होने के चलते बाढ़ की स्थिति थी,तो अभी फिर से शबरी व गोदावरी में पानी बढ़ने से कोंटा सहित पड़ोसी राज्य चिड़मुड़ व एर्राबोर के शबरी तट पर बसे बर्रेमोगा, ओडिनगुड़ा,इकलगुड़ा पाराओं में बसे लोगों की परेशानी बढ़ सकती है ।

इधर इंजरम, चिकवागुड़ा,एर्राबोर के एन एच पुलियाओं में पानी चढ़ जाने की गुंजाइश,बंद हो सकती है अब से कुछ घटों बाद एन एच मार्ग 30 । एसडीएम प्रदीप वैध के निर्देश बाद कोंटा तहसीलदार एर्राबोर पहुंचे है. शबरी तट पर बसे लोगों को सुरक्षित स्थान लाने का प्रयास निरंतर जारी है ।

ज्ञात हो कि जिस मुख्यालय सुकमा में व आसपास के अनेकों ग्रामों में बितें चार दिन आये भारी वर्षा व बाढ़ से जन जीवन अस्त व्यस्त हैं तो वहीं फिर से एक बार फिर बीतें चौबीस घंटों से हो रही लगातार भारी वर्षा से स्थानीय क्षेत्र के छोटे छोटे नालें उफान पर है । तो वहीं बीतें दिनों आये बाढ़ से कई गाँव वालों को खतरों का सामना करते हुए भारी परेशानी झेलनी पड़ीं थी ।
कुछ जगहों पर राज्य सुरक्षा बलों द्वारा रेस्क्यू आपरेशन के तौर पर मदद कर राहत दी गई थी तो वहीं सीआरपीएफ की भी मदद रही है । सुकमा जिला के कलेक्टर जय प्रकाश मौर्य के नेतृत्व में सभी जिला बाढ़ पीड़ितों व चपेट में आने वालो को हर संभव मदद पहूंचाने व स्थितियों पर जायजा लेते हुए रेस्क्यू दिया जा रहा है ।
Share it
Top