Web Analytics Made Easy - StatCounter
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Watch Video : Exclusive Interview : कैबिनेट मंत्री ताम्रध्वज साहू के साथ प्रधान संपादक डॉ हिमांशु द्विवेदी की खास बात -चीत

कैबिनेट मंत्री ताम्रध्वज साहू का यह पहला साक्षात्कार है।

Watch Video : Exclusive Interview : कैबिनेट मंत्री ताम्रध्वज साहू के साथ प्रधान संपादक डॉ हिमांशु द्विवेदी की खास बात -चीत

रायपुर। आज आईएनएच न्यूज़ के दफ्तर में कैबिनेट मंत्री ताम्रध्वज साहू पहुंचे। हाल ही में उन्होंने कैबिनेट मंत्री की शपथ ली है। आज उनसे विशेष बात -चीत की है हमारे प्रधान संपादक डॉ हिमांशु द्विवेदी ने। मंत्री पद की शपथ लेने के बाद उनका यह पहला साक्षात्कार है। प्रस्तुत है बात - चीत के प्रमुख अंश..

  • सीएम नहीं बनाए जाने पर साहू ने कहा कि इस लिस्ट में चार लोग शामिल थे। उनमें से एक मैं भी था। एक समय ऐसी चर्चा हुई कि मेरा नाम सबसे आगे हैं। लेकिन बाद में ऐसी परिस्थिति बनी कि भूपेश बघेल को सीएम बनाया गया। यह फैसला राष्ट्रीय अध्यक्ष का था, और हम उनके फैसले का सम्मान करते हैं। भूपेश बघेल को सीएम बनाए जाने के फैसले पर साहू ने कहा कि मैं राष्ट्रीय अध्यक्ष का फैसले को सम्मान करता हूं।
  • भूपेश बघेल लड़ाकू नहीं है। उनमें झुझारूपन है औऱ वे जनहित मुद्दों के लिये हमेशा मांग करते रहे हैं।
  • कर्ज माफी को लेकर साहू ने कहा कि यह हमारे लिये एक चैलेंज था। लेकिन हमने इसको लेकर पहले से ही प्लान कर लिया था। सरकार बनने के बाद अधिकारियों से चर्चा किया और फिर कर्ज माफी की। यह कांग्रेस पार्टी की ताकत है कि जो बीजेपी की सरकार 15 साल में नहीं कर पायी, वो हमने कर दिया।
  • विधानसभा चुनाव लड़ने को लेकर साहू ने कहा कि मुझे तो नहीं पता कि राष्ट्रीय अध्यक्ष ने ऐसा क्यों किया। लेकिन मैं अपने आप को भाग्यशाली मानता हूं कि राष्ट्रीय नेतृत्व ने अहम जिम्मेदारियां दी। 2019 के लोकसभा चुनाव के घोषणा पत्र कमेटी में भी मुझे स्थान दिया गया है। मैंने चुनाव लड़ने को लेकर पहले मना कर दिया था। लेकिन अचानक केंद्रीय नेतृत्व का निर्देश आया, जिसका मैंने पालन किया।
  • मैं जब भी चुनाव लड़ा हूं , पैसा नहीं होने के बाद भी मैं चुनाव लड़ लेता हूं। मैंने पैसा नहीं कमाया है, लेकिन जनता की पूंजी कमायी है। जिसकी वजह से मुझे कभी दिक्कत नहीं हुई।
  • साहू समाज को लेकर साहू ने कहा कि यह सच है कि बीजेपी के इस समाज के लोग अधिक है। लेकिन मुझे जब प्रत्याशी बनाया गया तो इस समाज का भरोसा हम जीतने में कामयाब रहें। औऱ कांग्रेस पार्टी को इसका फायदा मिला।
  • प्रतिमा चंद्राकर को लेकर कहा कि मुझे नहीं लगता कि उनको कुछ नुकसान होगा। पार्टी उनके लिए जरूर कुछ विचार करेगी। आपको बता दें कि प्रतिमा चंद्राकर को पहले दुर्ग ग्रामिण से प्रत्याशी बनाया गया था। लेकिन बाद में उनकी जगह ताम्रध्वज साहू को टिकट दिया गया।
  • दुर्ग ग्रामिण सीट से चुनाव लड़ने को लेकर साहू ने कहा कि मुझे बेमेतरा से चुनाव लड़ने को कहा गया तो मैंने मना कर दिया। क्योंकि वहां के प्रत्याशी तैयारी कर चुके थे, इसलिए मैंने वहां से मना कर दिया। फिर दुर्ग ग्रामिण से चुनाव लड़ने को लेकर भी मैंने मना कर दिया था। क्योंकि वहां से भी प्रत्याशी घोषित कर दिया गया था। लेकिन राहुल गांधी ने मुझे वहां से चुनाव लड़ा गया।
  • छत्तीसगढ़ में आसानी से चुनाव जीतने को लेकर साहू ने कहा कि हमने ओबीसी डिपार्टमेंट को सक्रिय किया। हमने इसको लेकर दिल्ली में कार्यक्रम किया। उस कार्यक्रम के बाद देशभर में इस कार्यक्रम को लेकर चर्चा हुई। मैंने तब राहुल गांधी से कहा था कि जब हमारी सरकार बने और आप पीएम बनें तो हमारे वर्ग के लिए कुछ काम हो। उसके बाद राहुल गांधी ने कहा था कि इस वर्ग को जितना मिलना चाहिए, उतना लाभ अवश्य मिलेगा। इसके बाद हमने प्रदेशभर में ओबीसी समाज को संगठित किया। जिसका असर चुनाव में देखने को मिलेगा। इसके साथ ही साहू ने कहा कि हमारी सरकार बनाने में बीजेपी सरकार की नाकामियां भी सहायक रही।
  • मैं चाहता हूं कि राहुल गांधी पीएम बनें और इसके लिये हमारा संगठन पूरी कोशिश करेगा।
  • विभाग बंटवारे को लेकर साहू ने कहा कि इस पर सीएम को फैसला करना है। हम इसको लेकर राष्ट्रीय नेतृत्व से राय लेंगे और उसके बाद इस पर फैसला लेंगे।
  • आदिवासी और समान्य वर्ग को लेकर साहू ने कहा कि उनको भी हमारी टीम में उचित प्रतिनिधित्व मिलेगा।
  • प्रदेश की जनता की उम्मीदों को लेकर साहू ने कहा कि हमारी पहली प्राथमिकता है कि हम जन घोषणा पत्र पर काम करें। उन वादों को पूरा करें जिनका हमने वादा किया है। इसके अलावा जो प्रदेश की बेहतरी के लिए जरूरी होगा हम करेंगे।
  • अधिकारियों के ट्रांसफर को लेकर साहू ने कहा कि हम किसी पर दवाब डालकर ट्रांसफर नहीं करते हैं। यह एक समान्य प्रक्रिया है। मंत्रिमंडल के बंटवारे के बाद निश्चित रूप से प्रशासनिक फेरबदल होगा।

Next Story
Share it
Top